देखें जालंधर पुलिस का कारनामा, चोरी की छह महीने तक जांच, सात महीने बाद दर्ज किया पर्चा

यह केस जालंधर के पुलिस थानों में आम आदमी की सुनवाई के बदतर हालात का बड़ा उदाहरण है।
Publish Date:Mon, 28 Sep 2020 02:30 PM (IST) Author: Pankaj Dwivedi

जालंधर, जेएनएन। जालंधर कमिश्नरेट पुलिस का कारनामा देखिए। एक चोरी की शिकायत दर्ज करवाने के लिए महिला को पहले अफसरों को दरख्वास्त देनी पड़ी। फिर उसकी जांच में अफसरों ने करीब छह महीने लगा दिए। सात महीने बाद पर्चा दर्ज किया गया है। यह पुलिस थानों में आम आदमी की सुनवाई के बदतर हालात का बड़ा उदाहरण है। पुलिस ने अब जाकर डीए लीगल की सलाह लेकर दो भाइयों पर प्लॉट में रखा सामान चोरी करने का केस दर्ज किया है।

 

बस्ती दानिशमंदा के शिवाजी नगर की रहने वाली मीना ने 17 मार्च, 2020 को पुलिस को शिकायत दी थी। इसमें उसने बताया था कि उसका बस्ती नौ में प्लाट है, जिसमें बने कमरे में उन्होंने सामान रखा हुआ था। इसमें रजाइयां, बर्तन आदि थे। उसकी देवरानी रमा, जेठानी सुनीता, भतीजे विवेक और सास का भी सामान पड़ा हुआ था। यह सारा सामान जिस प्लॉट में पड़ा था, उसे उन्होंने आपसी बोलचाल की वजह से रेशम और सेवा को किराए पर दे रखा था।

मीना ने बताया कि 13 फरवरी को उसकी देवरानी रमा का बेटा राहुल सुबह दस बजे प्लॉट से सामान निकालने गया तो देखा कि पेटी व बिस्तर गायब थे। यह सारा सामान किराएदार रेशम व सेवा ने चोरी कर लिया। उन्होंने कहा कि सामान इन्हीं लोगों ने चोरी किया है क्योंकि प्लॉट की चाबी इन्हीं दोनों के पास थी। वहां बने कमरे का ताला तोड़कर उन्होंने चोरी की है। उन्होंने पुलिस से फरियाद लगाई कि इन दोनों भाईयों से उनका चोरी किया सामान वापस दिलाया जाए।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.