जालंधर में निगम कमिश्नर ने एलइडी स्ट्रीट लाइट्स का काम रोका, कंपनी के इंतजाम पर जताई नाराजगी

जालंधर में एलइडी स्ट्रीट लाइट कंपनी के खिलाफ नगर निगम कमिश्नर ने सख्त रवैया अपना लिया है। तय शेडयूल के मुताबिक काम में देरी पर नाराज कमिश्नर करनेश शर्मा ने 32000 लाइट लगने के बाद कंपनी का काम रोक दिया।

Vikas_KumarFri, 11 Jun 2021 08:36 AM (IST)
जालंधर में 32000 लाइट लगने के बाद कंपनी का काम रोक दिया गया है।

जालंधर, जेएनएन। नगर निगम कमिश्नर ने एलइडी स्ट्रीट लाइट कंपनी के खिलाफ सख्त रवैया अपना लिया है। काम में देरी पर नाराज कमिश्नर करनेश शर्मा ने 32000 लाइट लगने के बाद कंपनी का काम रोक दिया। कंपनी को तब तक काम नहीं करने के निर्देश दिए हैं जब तक कम से कम 10000 नई एलईडी लाइट्स का प्रबंध नहीं हो जाता है। कहा-अभी तक 32000 लाइट लगाई है और अगला काम भी किस्तों में किया जा रहा है।

तय शेडयूल के मुताबिक काम में पहले ही देरी है। कई जगह लाइट्स के अभाव में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नगर निगम ने कंपनी के अधिकारियों और ओएंडएम ब्रांच के अफसरों के साथ मीटिंग के बाद कहा कि जब तक 10,000 एलईडी लाइट्स का स्टाक इकट्ठा नहीं हो जाता है तब तक शहर में कहीं भी काम शुरू न किया जाए। उन्होंने कहा कि कंपनी ने बताया कि अब 8 हजार लाइट्स आ चुकी है लेकिन काम तभी शुरू होगा जब 10 हजार लाइट्स आ जाएंगी।

बिजली चोरी रोकने के उपकरण भी जल्द इंस्टाल करने के आदेश

निगम कमिश्नर ने कंपनी को निर्देश दिया कि बिजली चोरी और बिजली बचत से संबंधित उपकरणों की इंस्टालेशन भी जल्द की जाए। शहर में 415 उपकरण लगने हैं। कंपनी से पूछा है कि अब तक कितने उपकरण लगाए गए हैं और इससे बिजली में कितनी कमी आई है। कमिश्नर ने बताया कि बिजली की बचत और बिजली की चोरी तभी पता लगेगी जब कंपनी सेंसर लगा देगी। ऐसे में अगर कोई भी बिजल चोरी करता है तो कंट्रोल रूम में इसका मैसेज आएगा। यह भी निर्देश दिया है कि रिपेयर के लिए अलग टीम बनाई जाए ताकि लोगों की शिकायत समय पर दूर हो सके।

इधर शहर में पुरानी लाइटों का रख-रखाव जीरो, ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करने का फैसला टला

नगर निगम की एफएंडसीसी की मीटिंग में दो जोन में स्ट्रीट लाइट््स के रखरखाव के ठेकेदार गुरम इलेक्ट्रिकल्स को ब्लैक लिस्ट करने का प्रस्ताव पेंडिंग कर दिया गया। सहमति बनी कि ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करने से पहले एक बार उसका पक्ष सुन लिया जाए। शहर के दो जोन में कई महीनों से ठेकेदार काम नहीं कर रहा है इसके बावजूद निगम ठेकेदार पर कई महीने से कार्रवाई नहीं कर पाया है। इस बार भी कार्रवाई का प्रस्ताव टल गया है। काम में लापरवाही दिखाने पर ठेकेदार को तीन बार नोटिस भेजा गया लेकिन उसने एक भी नोटिस का जवाब नहीं दिया।

सुपर सक्शन मशीन से सफाई का टेंडर पेंडिंग किया, 6.23 करोड़ के काम पास

एफएंडसीसी मीटिंग में मेयर जगदीश राजा ने मेंबरों की सहमति से 6.23 करोड़ के काम पास कर दिए। जोन नंबर तीन के इलाकों में सुपर सक्शन मशीन से मैनहोल और सीवरेज लाइन की सफाई का टेंडर रोक लिया है। मेंबर गुरविंदर सिंह बंटी नीलकंठ ने बताया कि टेंडर जिस कंपनी को दिया जाना था उसके नाम पर सुपर सक्शन मशीन नहीं है। ऐसे में मेयर ने फाइल रोक ली है। इस पर दोबारा चर्चा की जाएगी और पूरे दस्तावेज की जांच के बाद ही फैसला होगा। टैगोर नगर के पार्क का विकास कार्य का टेंडर मंजूर किया गया है। इसके अतिरिक्त डीएवी कालेज फ्लाईओवर से मकसूदां फ्लाईओवर तक कंक्रीट रोड, संतोखपुरा, जैमल नगर, कोट किशन चंद, किशनपुरा, वार्ड नंबर 55 में कृष्णा गली, संतोखपुरा में प्रकाश इलेक्ट्रिकल वाली गली को बनाने का प्रस्ताव है। इसके अलावा लक्ष्मीपुरा, वर्कशाप चौक से चंदन नगर अंडरब्रिज तक, संघा चौक से केपी स्टेडियम और कुक्की ढाब से साई मंदिर तक की सड़कों का काम भी मंजूर कर लिया है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.