डेढ़ साल का इंतजार खत्म, जिला कांग्रेस को जल्द मिलेगा नया प्रधान

जालंधर में डेढ़ साल से नए प्रधान का इंतजार कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हफ्ते भर में नया प्रधान मिल जाएगा।

JagranThu, 15 Jul 2021 07:30 AM (IST)
डेढ़ साल का इंतजार खत्म, जिला कांग्रेस को जल्द मिलेगा नया प्रधान

जागरण संवाददाता जालंधर : डेढ़ साल से नए प्रधान का इंतजार कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हफ्ते भर में नया प्रधान मिल जाएगा। पंजाब कांग्रेस से लेकर हाईकमान तक ने पंजाब कांग्रेस की टीम और जिला प्रधानों के नाम लगभग फाइनल कर लिए। तीन-चार शहरों के यूनिट को छोड़कर सभी जिला प्रधान भी फाइनल कर लिए गए। जालंधर शहरी यूनिट को लेकर अभी मंथन जारी है लेकिन यह भी 2 से 3 दिन में फाइनल हो जाएगा। करीब डेढ़ साल पहले सभी जिला इकाइयां भंग कर दी गई थी और तब से लेकर अब तक कार्यकर्ताओं को नए प्रधान का इंतजार है। प्रधान पद से हटाए जाने के बाद से अब तक बलदेव सिंह देव ही काम संभालते आ रहे हैं। पक्का प्रधान नहीं होने के कारण शहर में कांग्रेस बिखरी हुई है। कांग्रेस भवन भी डेढ़ साल से आमतौर पर सुनसान ही रहता है। बलदेव सिंह देव जरूर कार्यवाहक प्रधान के रूप में काम कर रहे हैं लेकिन वह पार्टी प्रोग्रामों को सिर्फ औपचारिकता के तौर पर ही पूरा कर रहे हैं। दो दिन पहले कांग्रेस की साइकिल यात्रा भी 50 वर्करों तक सिमट कर रह गई थी। सीनियर नेताओं, विधायकों, चेयरमैनों, डायरेक्टरों ने भी पार्टी प्रोग्रामों से दूरी बनाई हुई है। पंजाब में विधानसभा चुनाव को अब करीब सात महीने रह गए हैं तो पार्टी को संगठित करने के लिए भी सरगर्मी तेज हो गई है।

------

हिंदू-शहरी सिख में फंसा पेंच

जिला कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए फैसला अब हिदू, शहरी सिख के बीच आकर फंस गया है। हिदू प्रधान के रूप में मनोज मनु और बलराज ठाकुर पैनल में शामिल हैं जबकि शहरी सिख के रूप में मेजर सिंह और गगनदीप सिंह काकू आहलूवालिया के नाम शामिल हैं। हाईकमान का यह मानना है कि जालंधर शहर में हिंदू या शहरी सिख प्रधान ही कारगर रहेगा। इससे चुनाव में लाभ की उम्मीद है। हालांकि बैकवर्ड क्लास से हरजिदर सिंह लाडा के नाम पर भी चर्चा हो रही है। एक लाबी बैकवर्ड क्लास के पक्ष में

पार्टी की एक लॉबी लाडा के लिए जोर लगा रही है। पिछले प्रधान बलदेव सिंह देव बैकवर्ड क्लास से थे इसलिए बैकवर्ड क्लास को रिपीट करना आसान नहीं होगा। शहरी इलाके में बैकवर्ड क्लास का वोट बैंक भी ज्यादा नहीं है। मंथन अब इस बात पर है कि जो नाम पैनल में है उनमें से किसका नाम तय किया जाए। पार्टी वहीं नाम तय करेगी जो चुनाव में आक्रमक तरीके से पार्टी को आगे ले जा सके। चूंकि जालंधर मीडिया हब है और बड़े नेताओं का यहां पर आना-जाना लगा रहता है तो यहां पर मजबूत प्रधान नियुक्त करना जरूरी रहेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.