top menutop menutop menu

Jalandhars Highway of Potholes: बाबू जी जरा संभलना, जानलेवा साबित हो सकता है जालंधर के हाईवे से गुजरना

जालंधर [मनोज त्रिपाठी]। जालंधर के हाईवे खस्ताहाल हो गए हैं। यहां से रोजाना हजारों लोगों को जान हथेली पर लेकर गुजरना पड़ रहा है। सावधानी हटी और दुर्घनटा घटी। न तो नेशनल हाईवे अथॉरिटी (NHAI) इस ओर ध्यान दे रही है और न ही पंजाब सरकार किसी का दर्द समझती है। विशेष कर ट्रांसपोर्ट नगर के आसपास अमृतसर हाईवे का बुरा हाल है। यहां जगह-जगह बने बड़े-बड़े गड्ढे हमेशा हादसे को दावत देेत रहते हैं। इनमें गिरकर कई वाहन क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। सैकड़ों लोग घायल भी हो चुके हैं। बावजूद इसके, हाईवे प्रशासन ने यहां पड़े गड्ढे भरने की जहमत नहीं उठाई है।

वीरवार को ट्रांसपोर्ट नगर में हाईवे पर पड़े गड्ढे में फंसकर एक ट्रक का चक्का ही टूट गया। उसका एक्सएल से बाहर निकल गया था। दुर्घटना के बाद ईंटों से लदे ट्रक को पूरे दिन की मशक्कत के बाद खाली किया गया और किसी तरह वहां से हटाने का काम जारी रहा। मजबूरी में लोग आधे-अधूरे बने फुटपाथ से वाहन लेकर गुजर रहे हैं। इस कारण फुटपाथ का भी बुरा हाल हो गया है। 

जालंधर के ट्रांसपोर्ट नगर में वीरवार को ट्रक का चक्का टूटने के बाद उसे मौके से हटाने के लिए काम करती हुई जेसीबी मशीन।

2012 में पूरा होने वाला हाईवे का निर्माण आज 8 साल बाद भी अधूरा है। इसका जितना निर्माण हो चुका है, उसमें भी कई खामियां हैं जिन्हें एनएचएआई प्रशासन दूर नहीं कर पा रहा है। चाहे पीएपी चौक फ्लाईओवर की गलत डिजाइन का मामला हो या रामामंडी फ्लाई ओवर हाईवे के किनारे बने ड्रेनेज सिस्टम का। हर तरफ लापरवाह के कारण वाहन चालकों की जान पर बन आई है।

जानलेवा बनी रामा मंडी फ्लाईओवर के पास हाईवे की खुली ड्रेन

रामामंडी फ्लाई ओवर हाईवे के किनारे ड्रेन को आज तक सीवरेज से कनेक्ट नहीं किया जा सका है। मानसून दस्तक दे चुका है। इन हालात में अगर जालंधर आना है और हाईवे पर सफर करना है तो जरा संभल कर और सावधानी के साथ करें। पता नहीं आप की गाड़ी कहां पर अचानक गड्ढे में फस जाए या गिर जाए। जरा सी असावधानी से गाड़ी के क्षतिग्रस्त होने के साथ-साथ आप भी चोटिल हो सकते हैं।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.