जालंधर बाईपास: 27 से शुरू होगा अधिग्रहित जमीन का मुआवजा वितरण

-पहले 5 गांव का 35 करोड़ मुआवजा डीआरओ को ट्रांसफर -एक सप्ताह में अन्य 14 गांव के लिए 70 करोड़ भी पहुंचेंगे

JagranFri, 18 Jun 2021 01:05 AM (IST)
जालंधर बाईपास: 27 से शुरू होगा अधिग्रहित जमीन का मुआवजा वितरण

जागरण संवाददाता, जालंधर

महानगर को अमृतसर, जम्मू एवं होशियारपुर की तरफ से आने वाले ट्रैफिक के लोड से राहत दिलाने के लिए बनाए जा रहे जालंधर बाईपास के लिए अधिग्रहित की गई जमीन का मुआवजा वितरण आगामी 27 जून से शुरू हो जाएगा। करतारपुर के नजदीक गांव काहलवां से शुरू होकर नकोदर रोड स्थित गांव कंग साबू तक जाने वाले इस बाईपास को बनाने के लिए लगभग 40 गांव के लगभग 377 हेक्टयर रकबे का अधिग्रहण किया गया है। नेशनल हाईवे अथारिटी आफ इंडिया (एनएचएआइ) की तरफ से इस बाईपास का निर्माण करवाया जा रहा है। 40 में से पहले पांच गांवों की जमीन अधिग्रहण के लिए दिए जाने वाले मुआवजे के लगभग 35 करोड़ रुपये जिला राजस्व अधिकारी (डीआरओ) के खाते में ट्रांसफर कर दिए गए हैं। अन्य 14 गांव के मुआवजे के लगभग 70 करोड़ रुपये आगामी एक सप्ताह के भीतर ट्रांसफर हो जाने की भी प्रबल संभावना है। एनएचएआइ से प्राप्त जानकारी के मुताबिक जमीन अधिग्रहण के लिए लगभग 600 करोड़ रुपये मुआवजे के तौर पर दिए जाने हैं। बाकी बचते 21 गांव के मुआवजे के पैसे भी ट्रांसफर किए जाने की प्रक्रिया जारी है। एनएचएआइ अधिकारियों के मुताबिक राजस्व विभाग के पटवारी मुआवजा वितरण के लिए रजिस्टर वगैरह बनाने की प्रक्रिया में जुट गए हैं।

सिक्स लेन जालंधर बाईपास का निर्माण हो जाने के बाद अमृतसर, जम्मू कश्मीर एवं होशियारपुर से आ रहा ट्रैफिक दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान आदि राज्यों के लिए जाने के लिए जालंधर शहर में प्रवेश नहीं करेगा। यह ट्रैफिक बाईपास से ही गुजर जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.