इस बार दिवाली पर अपने घर को दें नेचुरल लुक, ग्रीन वाल से चहकेगी चारदिवारी Jalandhar News

जालंधर, [शाम सहगल]। रोशनी के त्योहार दीपावली पर घर की दीवारों पर प्रकृति की झलक पाने के लिए मार्केट में ग्रीन वॉल इजाद की गई है। हालांकि इससे पूर्व ग्रास मेट का इस्तेमाल फर्श या टेबल के साथ-साथ दीवारों के ऊपरी हिस्से पर किया जा रहा था और अब ग्रीन वॉल उतारी गई है। यही नहीं ड्राई अरेंज एंटरटेनमेंट के साथ कमरों के कॉर्नर को भी प्राकृतिक लुक दी जा सकती है।

दीवार के मुताबिक करें ग्रीन वॉल का चयन

घर में ग्रीन वॉल लगवाने के लिए दीवार के मुताबिक शीट का चयन करना होता है। इसकी खास बात यह है कि भले ही दीवार में एलईडी घड़ी व इलेक्ट्रिक स्विच बोर्ड लगाना पड़े, इसकी सुंदरता कम नहीं पड़ती। इसका रेट 10 गुणा 10 साइज में 180 रुपये से है।

ड्राई अरेंज एंटरमेंट के साथ भरें घर के कॉर्नर

घर को सजाते समय कॉर्नर की सुंदरता बनाए रखना सबसे बड़ी चुनौती होती है। इसके लिए फ्लावर रेंज में ड्राई अरेंज एंटरमेंट उपलब्ध करवाया गया है। इसमें कॉर्नर के साइज के मुताबिक ड्राई रेंज पत्तियां व फ्लावर लगाए जाते हैं। इसकी कीमत 3500 रुपये से लेकर है।

मनी प्लांट से लेकर नीम की पत्तियों का मिलेगा एहसास

मॉडल टाउन रोड स्थित फ्लावर पॉइंट की सुजाता भाटिया बताती हैं कि कुदरती पौधे घर के अंदर या बाहर न लगा सकने वाले आर्ट लवर्स के लिए मनी प्लांट से लेकर नीम की पत्तियां तथा बेल से लेकर हर तरह के पौधे इजाद किए गए हैं। इन्हें घर में कहीं भी स्थापित किया जा सकता है।

मॉर्निंग बुके भी बने पहली पसंद

दीपावली को लेकर मॉर्निंग बुके विशेष रूप से तैयार किए गए हैं। इन्हें अपनों को भेंट करके दीपावली की मॉर्निंग विश की जा सकती है। इसकी कीमत 300 रुपये से लेकर है।

दीवारों पर उग जाएंगे फूल

इस बार केवल ग्रीन वॉल ही नहीं, बल्कि दीवारों पर फूल उगाने का भी इंतजाम किया है। भले ही यह फूल प्राकृतिक नहीं होंगे, लेकिन देखने व महसूस करने में यह शुद्ध रूप से प्राकृतिक लगेंगे। जिनकी कीमत मांग के मुताबिक तय की जाती है।

ट्रेडिशनल कैंडल है सदा के लिए

इस बार दीपावली को लेकर ट्रैडिशनल कैंडल विद नेचर को बाजार में विशेष रूप से उतारा गया है। जो त्योहार के बाद भी शोपीस के रूप में बेहतर लुक देती है। इस चाइनिस कैंडल के दाम 4600 रुपये है।

समय के साथ बदली मांग

सुजाता भाटिया बताती हैं कि समय के साथ लोगों की मांग में बदलाव आया है। लोग प्राकृति के नजदीक रहना चाहते हैं, लेकिन जगह का अभाव, कुदरती प्लांट की देखभाल सहित अन्य कारणों के चलते लोग ऐसे प्लांट्स को तरजीह देते हैं जो भले ही कुदरती नहीं हैं, लेकिन इनकी लुक व फीलिंग बिल्कुल नेचुरल ही होती है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.