मानसून में रेल सेवाएं निर्बाध जारी रखने को बनाई रणनीति, फिरोजपुर मंडल की तरफ से किए गए सुरक्षा प्रबंध

मंडल रेल प्रबंधक ने बताया कि बारिश के दौरान रेल पुलों अथवा रेलवे ट्रैकों के आस-पास जल-जमाव नहीं हो इसके लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं। अमृतसर लुधियाना फिरोजपुर कैंट पठानकोट जम्मूतवी श्री माता वैष्णो देवी कटरा रेलवे स्टेशनों के यार्डों के जल निकासी की व्यवस्था कर ली गई है।

Pankaj DwivediTue, 15 Jun 2021 04:26 PM (IST)
फिरोजपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक राजेश अग्रवाल। फाइल फोटो

जालंधर, जेएनएन। मानसून के दौरान बारिश में रेल सेवाएं सुरक्षित एवं निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए रेलवे के फिरोजपुर मंडल ने विस्तृत रणनीति बनाई है। मंडल रेल प्रबंधक राजेश अग्रवाल ने बताया कि मानसून का मौसम रेलवे के लिए काफी चुनौती पूर्ण होता है। बारिश के कारण भूस्खलन, तटबंधों में दरार, पुलों के बह जाने की समस्याओं के साथ-साथ यार्डों में पानी भरने से ट्रैक सर्किट काम करना बंद कर देते हैं। इससे सिग्नलिंग प्रणाली के विफल होने के कारण ट्रेन संचालन प्रभावित होता है।

मंडल रेल प्रबंधक ने बताया कि बारिश के दौरान रेल पुलों अथवा रेलवे ट्रैकों के आस-पास जल-जमाव नहीं हो, इसके लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं। अमृतसर, लुधियाना, फिरोजपुर कैंट, पठानकोट, जम्मूतवी, श्री माता वैष्णो देवी कटरा रेलवे स्टेशनों के यार्डों के जल निकासी व्यवस्था की पूर्णतः सफाई कर ली गई है। मंडल के अन्य स्टेशनों के यार्डों की जल निकासी व्यवस्था की सफाई का कार्य चल रहा है, जिसे शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा। रेलवे पटरियों के किनारे कटाई में बनी लगभग 142 किलोमीटर नालियों की सफाई कर ली गई है, जिससे रेलवे ट्रैक पर पानी जमा नहीं हो सकें।

फिरोजपुर मंडल के अंतर्गत आने वाले 178 रेल पुलों के जलमार्ग की सफाई के साथ-साथ इन पर बारिश के पानी के पैमाने के लिए खतरे की निशान लगाए गए हैं ताकि सुरक्षित रेल परिचालन हेतु तत्काल कदम उठाया जा सकें। मुसलधार बारिश के दौरान जमा पानी को जल्द से जल्द निकालने के लिए 17 रेल अंडर ब्रिज (आरयूबी) पर मोटर पंप तैयार रखा गया है। बाढ़ के कटाव से निपटने के लिए विभिन्न स्टेशनों पर पत्थरों के बोल्डर, बालू की बोरियां, बांस-बल्ली इत्यादि से भरे वैगनों की व्यवस्था कर ली गई है | इसके साथ ही पूरे मानसून के दौरान, रेल पटरियों की सुरक्षा हेतु चलाये जाने वाले सामान्य पेट्रोलिंग के साथ ही ‘मानसून पैट्रोलिंग‘ की विशेष व्यवस्था की गयी है जो रात में भी रेलवे पुलों एवं ट्रैकों की पेट्रोलिंग करेंगे।  

मंडल रेल प्रबंधक ने बताया कि बाढ़ की आपात स्थिति से निपटने के लिए राज्य सरकार के आपदा नियंत्रण कार्यालय से समन्वय स्थापित किया जा रहा है। इसके साथ ही मौसम की जानकारी के लिए मौसम विज्ञान विभाग से भी समन्वय स्थापित किया जा रहा है ताकि बारिश की सटीक जानकारी प्राप्त हो सके और सही समय पर आवश्यक कदम उठाया जा सकें।  उन्होंने जनसाधारण से अपील करते हुए कहा कि यदि मुसलाधार बारिश, बाढ़, ट्रैक  में दरार आदि की आशंका होती है तो 9779232279 पर सूचित करें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.