जालंधर में दो बच्चों की हत्या करने वाला पिता रिश्तेदारों के साथ गिरफ्तार, तल्हण गांव में एक दिसंबर 2020 को हुई थी वारदात

जालंधर में करीब एक साल पहले तल्हण गांव में अपने दो मासूम बच्चों की हत्या कर शव गांव के बाहर तालाब में फेंकने के मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। रंजीत का पुलिस ने दो दिन का रिमांड हासिल किया है।

Fri, 03 Dec 2021 08:18 PM (IST)
जालंधर में पुलिस के हत्थे चढ़े दो बच्चों का कत्ल करने वाले हत्यारे।

जागरण संवाददाता, जालंधर करीब एक साल पहले तल्हण गांव में अपने दो मासूम बच्चों की हत्या कर शव गांव के बाहर तालाब में फेंकने के मामले में पुलिस ने बिहार के दरभंगा जिले के पटौरी गांव निवासी रंजीत मंडल पुत्र मदन मंडल, उसकी मां बीना, भाई संगीत मंडल, बहन पूजा और बहनोई ज¨तदर कुमार उर्फ जीता निवासी जगराल को गिरफ्तार कर लिया है। अदालत ने आरोपित रंजीत मंडल को पहले से ही भगोड़ा घोषित कर दिया था। रंजीत का पुलिस ने दो दिन का रिमांड हासिल किया है, जबकि बाकी आरोपितों को एक दिन के रिमांड पर लिया है।

थाना पतारा के प्रभारी रक्षपाल ¨सह ने बताया कि एक साल से रंजीत की तलाश की जा रही थी। उसको काबू करने के बाद पूछताछ के आधार पर बाकी आरोपितों को भी पकड़ लिया गया। पुलिस ने सबकी गिरफ्तारी शुक्रवार को दिखाई है। उन्होंने कहा कि हत्याकांड में अगर किसी और की भी संलिप्तता पाई जाती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस की पूछताछ में यह सामने आया है कि आरोपित का अपनी पत्नी रंगीली से विवाद चल रहा था। इसके चलते उसकी मां, बहन और भाई ने उसे अपनी पत्नी को छोड़कर दूसरी लड़की से शादी कराने का झांसा दिया था। आरोपित की शादी बिहार के दामोरी कला निवासी एक लड़की से उसके स्वजनों ने तय भी कर दी थी। इस शादी में उसकी पांच साल की बेटी अनमोल और तीन साल का बेटा राकेश रोड़ा बन रहे थे।

पुलिस के अनुसार स्वजनों ने रंजीत मंडल को दूसरी शादी से पहले दोनों बच्चों को रास्ते से हटाने के लिए कहा था। एक दिसंबर 2020 को आरोपित अपनी पत्नी से दोनों बच्चों को छीनकर अपने भाई के घर पर जमशेर लेकर आया था और फिर गला दबाकर दोनों की हत्या कर दी थी। दोनों ही मासूमों का शव वारदात के नौ दिन के बाद तल्हण गांव के तालाब से बरामद हुआ था। पत्नी के चरित्र पर करता था शक वारदात के बाद 11 दिसंबर 2020 को पुलिस को दी शिकायत में रंगीली ने कहा था कि उसका पति उसके चरित्र पर शक करता था। वारदात से 10 दिन पहले ही बच्चों को उससे छीनकर ले गया था। हत्या के बाद दो महीने तक लुधियाना में रहा, फिर जालंधर लौट आया वारदात को अंजाम देने के बाद रंजीत मंडल अपने एक जानकार के पास लुधियाना चला गया था। वहां वह दिहाड़ी मजदूरी करने लगा था।

वारदात में शामिल आरोपित की मां बीना व भाई संगीत जमशेर इलाके के कड़ियावाल गांव में छिपे हुए थे। वहीं उनकी बहन पूजा जगराल गांव में छिपी हुई थी। पुलिस ने आरोपितों को कड़ियावाल गांव से गिरफ्तार कर लिया है। क्या है मामला 10 दिसंबर 2020 को पतारा थाना क्षेत्र के तल्हण गांव में एक तालाब के बाहर से दो मासूम बच्चों के शव बरामद हुए थे। पुलिस ने बच्चों की मां रंगीली के बयान पर आरोपित पिता रंजीत के खिलाफ केस दर्ज किया था। पुलिस ने आरोपित की तलाश में बिहार और उसके अन्य ठिकानों पर भी छापेमारी की थी, लेकिन वह हाथ नहीं आया था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.