केंद्र सरकार की टीम ने किया अस्पताल का दौरा, सुविधाओं का लिया जायजा

जालंधर के सिविल अस्पताल में जांच करती हुई केंद्रीय टीम। जागरण

कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मरीजों और बढ़ती मृत्यु दर को देखते हुए केंद्र सरकार ने अपनी टीमें राज्यों में भेजी हैं। पंजाब में भी टीमों को तैनात किया गया है। यह टीम स्थिति का जायजा लेकर केंद्र सरकार को रिपोर्ट सौंपेगी।

Pankaj DwivediFri, 09 Apr 2021 02:54 PM (IST)

जालंधर, जेएनएन। गृह मंत्रालय की टीम ने शुक्रवार को सिविल अस्पताल का दौरा कर स्वास्थ सुविधाओं का जायजा लिया। डॉ. मनीष कुमार और डॉ. शिवांगी की टीम ने सिविल अस्पताल के आईसीयू, लैबोरेटरी, वैक्सीनेशन सेंटर, फ्लू कॉर्नर और लेवल 2 व लेवल 3 का दौरा किया। उन्होंने मौके पर तैनात डॉक्टरों व स्टाफ से लोगों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सवाल पूछे।

उन्होंने बताया कि पिछले 15 दिन से राज्य में बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मरीजों और बढ़ती मृत्यु दर को देखते हुए केंद्र सरकार ने अपनी टीमें राज्यों में भेजी हैं। पंजाब में भी टीमों को तैनात किया गया है। यह टीम स्थिति का जायजा लेकर केंद्र सरकार को रिपोर्ट सौंपेगी। इसके बाद अगली रणनीति तय की जाएगी। टीम सैंपल जांच केंद्र, सैंपल लेने वाले केंद्र, पब्लिक सुविधाओं और जिला प्रशासन और पुलिस व्यवस्था को लेकर तमाम पहलुओं पर गहन जांच पड़ताल करेगी। इस मौके पर टीम के साथ सिविल सर्जन डॉ. बलवंत सिंह, मेडिकल सुपरिंटेंडेंट परमिंदर कौर, डॉ. राकेश चोपड़ा डॉ. गुरमीत लाल ,डॉ. भूपिंदर सिंह, डॉ. सतिंदर कौर के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे।

शुक्रवार को जालंधर के सिविल अस्पताल में सैंपलिंग, कोरोना मरीजों के उपचार और टीकाकरण के बारे में जानकारी लेती हुई केंद्रीय टीम।

नए कोरोना पॉजिटिव मामलों में जालंधर और लुधियाना सबसे आगे

बता दें कि जालंधर और लुधियाना में पंजाब में सबसे ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं। कोरोना वायरस संक्रमण से वीरवार को छह महिलाओं समेत आठ लोगों की मौत हो गई। सबकी उम्र 45 से अधिक रही। सभी को पहले से हाइपरटेंशन, मधुमेह व हार्ट की गंभीर बीमारियां थी। वे सभी पहले से किसी न किसी अस्पताल में दाखिल थी। कोरोना में अब तक मरने वालों में 80 फीसद की उम्र 45 से ज्यादा ही रही है, इसलिए वैक्सीन जरूर लगवाएं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.