Water Crisis: पंजाब-हरियाणा-राजस्थान व दिल्ली में पैदा हो सकता है जल संकट, भाखड़ा बांध में तेजी से घट रहा पानी

भाखड़ा बांध में पिछले साल की तुलना में इस समय 64.78 फीट कम है।

भाखड़ा बांध में जहां पिछले साल इन दिनों 9949 क्यूसिक पानी की आवक बनी हुई थी वो अब कम होकर 6982 क्यूसिक तक पहुंच गई है। कम आवक के कारण जलस्तर भी इस समय पिछले साल की तुलना में 64.78 फीट कम है।

Vikas KumarTue, 06 Apr 2021 12:58 PM (IST)

नंगल, [सुभाष शर्मा]। पिछले साल सितंबर माह में जरूरत के अनुसार बारिश ना होने के चलते भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड के जलाशयों में पानी की आवक में कमी बरकरार है। भाखड़ा बांध में जहां पिछले साल इन दिनों 9949 क्यूसिक पानी की आवक बनी हुई थी वो अब कम होकर 6982 क्यूसिक तक पहुंच गई है। कम आवक के कारण जलस्तर भी इस समय पिछले साल की तुलना में 64.78 फीट कम है।

भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड के रविवार चार अप्रैल को दर्ज आंकड़ों के अनुसार पिछले साल भाखड़ा बांध का जलस्तर 1598.08 फीट था जो इस समय 1533.30 फीट है। उधर रणजीत सागर बांध में भी पानी की आवक मात्र 1640 क्यूसिक है जो पिछले साल आज के दिन 7544 क्यूसिक थी। पोंग बांध में भी इस समय पानी की आवक मात्र 1009 क्यूसिक है जो पिछले साल 5269 क्यूसिक थी। कुल मिलाकर सभी बांधों में जरूरत के अनुसार पानी की आवक काफी कम हो चुकी है।

यह भी पढ़ेंः आलीशान होटल में SGPC कर्मचारी के साथ रंगरलियां मना रही थी कांस्टेबल की पत्नी, अचानक पहुंच गया पति

ऐसे में भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड पहले ही अपने भागीदार प्रांतों पंजाब, हरियाणा, राजस्थान व दिल्ली को अवगत करा चुका है कि वे आने वाले दिनों में पानी की संतोषजनक अपूर्ति के मद्देनजर इस समय पानी की मांग सोच समझकर ही करें, ताकि भविष्य में जल संकट पैदा ना हो। बता दें कि भाखड़ा बांध से ही उक्त प्रांतों को पेयजल तथा कृषि के उद्देश्य से वर्ष भर पानी की सप्लाई की जाती है। दिल्ली में रोजाना 490 क्यूसिक पानी की सप्लाई भी भाखड़ा बांध से ही की जाती है।

यह भी पढ़ेंः Live: मुख्‍तार अंसारी को थोड़ी ही देर में सौंपा जाएगा, रूपनगर जेल में यूपी पुलिस की गाड़ियां व एंबुलेंस पहुंची

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.