भारत बंद की काल में शिअद किसानों के साथ : लाली बाजवा

केंद्र सरकार की तरफ के पास किए गए खेती कानूनों के विरोध में शिअद पूरा साथ देगी

JagranSat, 25 Sep 2021 05:00 PM (IST)
भारत बंद की काल में शिअद किसानों के साथ : लाली बाजवा

जागरण टीम, होशियारपुर : केंद्र सरकार की तरफ के पास किए गए खेती कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चे की तरफ से 27 सितंबर को भारत बंद की दी गई काल में अकाली दल किसानों के कंधे के साथ कंधा लगाकर आगे बढ़ेगा। उक्त बात अकाली दल के जिला प्रधान शहरी जतिदर सिंह लाली बाजवा की तरफ से अपने गृह में पार्टी वर्करों के साथ की गई मीटिग के दौरान किया गया। लाली बाजवा ने आगे कहा कि जब तक केंद्र सरकार खेती कानूनों को रद्द नहीं कर देती तब तक अकाली दल किसान जत्थेबंदियों के साथ मिलकर संघर्ष करता रहेगा।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार ने खेती कानून पास करके पंजाब की किसानी को खत्म करने की बड़ी साजिश घड़ी है जिसको किसी भी कीमत पर कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। लाली बाजवा ने कहा कि लोग सरकारें इसलिए चुनते हैं तो जो लोगों और समाज के विकास के लिए समय सिर फैसले लेकर सरकार उनको जमीनी स्तर पर लागू किया जाए, लेकिन केंद्र की सरकार तानाशाही रवैया अपनाकर वो कानून पास और लागू कर रही है जो कि आम लोगों के विरोध में हैं और कुछ अमीरों को फायदा दिलाने वाले हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों और फैसलों के कारण विश्व स्तर पर देश की साख को चोट लगी है, जिसकी भरपाई करना बहुत ही मुश्किल है और सरकार के गलत फैसलों के कारण देश का अर्थव्यवस्था बुरी तरह तहस नहस हो चुकी है।

इस मौके पर किसान विग के जिला प्रधान यादविदर सिंह बेदी, रूप लाल थापर, संतोख सिंह औजला, रविदरपाल मिंटू, इंजीनियर हरिदरपाल सिंह झिगड़, हरसिमरन सिंह बाजवा, नरिदर सिंह, रणधीर सिंह भारज, सिमरजीत सिंह ग्रेवाल, सतविदर आहलूवालिया, विशाल आदिया, इन्द्रजीत सिंह कंग, पुनीतइंदर सिंह कंग, जपिदर अटवाल, गुरप्रीत कोहली, हनी आदिया, अजमेर सिंह, अभिजीत सिंह, मनदीप जसवाल, लवली पहलवान आदि भी मौजूद थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.