नवांशहर से होशियारपुर में दाखिल होने पर टूटी सड़क करती है लोगों का स्वागत

किसी जिले के विकास की कहानी सड़कों की हालत बयां कर देती है। पंजाब में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल को साढ़े चार साल बीत गए हैं लेकिन माहिलपुर से कोटफातुही सड़क की रिपेयर पीडब्ल्यूडी की फाइलों में दबकर रह गई है।

JagranFri, 30 Jul 2021 05:36 PM (IST)
नवांशहर से होशियारपुर में दाखिल होने पर टूटी सड़क करती है लोगों का स्वागत

रामपाल भारद्वाज, माहिलपुर

किसी जिले के विकास की कहानी सड़कों की हालत बयां कर देती है। पंजाब में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल को साढ़े चार साल बीत गए हैं लेकिन माहिलपुर से कोटफातुही सड़क की रिपेयर पीडब्ल्यूडी की फाइलों में दबकर रह गई है। 13 किलोमीटर सड़क के हालात के संबंध में खबरें छपती रही हैं और अधिकारी पैचवर्क जल्द की जा रही है के दावों से समय निकाल रहे हैं। इसी तरह माहिलपुर से बहराम की दूरी 37 किलोमीटर है। इस रास्ते का इस्तेमाल फगवाड़ा, जालंधर, लुधियाना और अन्य शहरों के लिए माहिलपुर व हिमाचल प्रदेश से आने वाले लोग करते हैं। यह सड़क उन्हें कम समय में मंजिल तक पहुंचा देती थी, लेकिन अब बदहाल मार्ग के कारण वाहन चालक इसका उपयोग करने से कन्नी काट लेते हैं और वह होशियारपुर से गढ़शंकर-बंगा होते हुए लंबे रास्ते को चुनते हैं। मुसीबत उन लोगों को होती है जिनके साधन सीमित है और आसपास के गांवों के रहने वाले लोगों को मजबूरन टूटी रोड पर सफर करना पड़ता है। गहरे गड्ढे दोपहिया वाहन चालकों के लिए हर पल खतरे का कारण बने रहते हैं। इलाके के लोग कई बार सरकार से सड़क की रिपेयर की मांग कर चुके हैं, लेकिन उन्हें नेताओं व अधिकारियों से मात्र आश्वासन देकर बहला दिया जाता है। जब इस संबंध में एक्सईन पीडब्ल्यूडी होशियारपुर कमल नैन से बात की गई तो उन्होंने हमेशा की तरह जल्द रिपेयर की बात कही।

जागरण ने उठाया मुद्दा तो आश्वासन ही मिला

खड़ोदी के गुरमेल सिंह गिल, पचनंगल के पूर्व सरपंच संजीव कुमार, हरजिदर सिंह, लक्की सिंह, जयगोपाल धीमान प्रधान लेबर पार्टी, सतनाम सिंह, कोटफातुही के भाजपा नेता तरुण अरोड़ा, प्रदीप सिंह, सुरजीत सिंह ईसपुर, हरविदर सिंह नगदीपुर ने कहा-कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में वादा किया था कि सड़क का नवनिर्माण या रिपेयर की जाएगी। इसके बाद लोकसभा चुनाव में भी सभी दलों के उम्मीदवारों ने जीतने पर सड़क बनाने के दावे किए थे लेकिन वह आज तक हवा हवाई है। पीडब्ल्यूडी ने पैचवर्क के नाम पर गढ्डों में मिट्टी डलवा दी। यह मुद्दा दैनिक जागरण ने उठाया था तो उस वक्त विभाग के अधिकारियों ने जल्द पैचवर्क कराने का आश्वासन दिया था। साढ़े चार साल बीतने के बाद भी सड़क के भाग्य नहीं बदले।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.