पंजाब सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे एनएचएम के मुलाजिम,डेढ घंटे तक सैशन चौक में लगाया जाम

हड़ताल के 15वें दिन नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारियों ने काम ठप रखा। नारेबाजी करते हुए समूह कर्मचारी पंजाब सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आए। सिविल अस्पताल से शुरु हुए इस रोष मार्च को कर्मचारियों ने सैशन चौक में विधायक सुंदर अरोड़ा के घर से चंद मीटर की दूरी पर समाप्त किया।

JagranMon, 06 Dec 2021 09:53 PM (IST)
पंजाब सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे एनएचएम के मुलाजिम,डेढ घंटे तक सैशन चौक में लगाया जाम

जागरण संवाददाता, होशियारपुर : नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारियों की हड़ताल सोमवार को 15वें दिन में प्रवेश कर गई। हड़ताल के 15वें दिन नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारियों ने काम ठप रखा। नारेबाजी करते हुए समूह कर्मचारी पंजाब सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आए। सिविल अस्पताल से शुरु हुए इस रोष मार्च को कर्मचारियों ने सैशन चौक में विधायक सुंदर अरोड़ा के घर से चंद मीटर की दूरी पर समाप्त किया।

इस दौरान पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारियों ने सैशन चौक में धरना लगा दिया। लगभग डेढ़ घंटे तक लगाए गए इस धरने में कर्मचारियों ने पंजाब सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मांग की कि उनकी सभी उचित मांगों को पूरा किया जाए। साथ ही जो मुलाजिम कोरोना के समय रखे गए थे उन्हें पक्का किया जाए। ताकि बुरे वक्त में देश के लिए जान की परवाह न करते हुए आगे आने वाले लोगों को इंसाफ मिल सके। उन्होंने कहा कि सरकार ने अपना मतलब निकलते हुए उन कोरोना योद्धाओं को बेरोजगार कर दिया जो सरासर धक्केशाही है। यह कोरोना योद्धाओं के साथ बेईमानी है। सरकार उन्हें पक्का करने के स्थान पर निकाल रही है जो गलत है।

इस दौरान एनएचएम के अधीन काम कर रहे क्लेरिकल, मेडिकल, पैरा मेडिकल व आशा वर्करों ने भी प्रदर्शन में भाग लिया। मौके पर तलविदर सिंह ने बताया कि एनएचएम कर्मचारी पिछले 15 सालों से बहुत ही कम वेतन पर अपनी बढि़या सेवाएं दे रहे हैं। फिर भी सरकार उनकी मांगों को नहीं मान रही। कोरोना काल में दिन रात इन कर्मचारियों ने लोगों की सेवा की। इस दौरान उन्होंने विधायक अरोड़ा को अपनी मांगों संबंधी ज्ञापन भी सौंपा। जिसपर विधायक ने उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन भी दिया, इसपर भी कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी बंद नहीं की। नका कहना था कि सरकार जो शर्त लगा रही है, उससे 38 हजार में से 1000 मुलाजिम भी नियमित नहीं हो सकते हैं। सरकार उन्हें मूर्ख बना रही है। उन्होंने कहा कि यदि मांगों को नहीं माना गया तो संघर्ष को और भी तेज कर दिया जाएगा। इस मौके पर चीफ फार्मेसी एसोसिएशन के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह, परमिदंर सिंह, आशा वर्कर यूनियन प्रधान हरनिदर कौर, गुरजिदर सिंह वनवैत, सर्व शिक्षा व मिड डे मील कर्मचारियों सहित एनएचएम यूनियन के अन्य सदस्य मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.