वरदान से कम नहीं है लांबड़ा सोसायटी का बायोगैस व वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण (एसबीएमजी) की केंद्रीय टीम ने देश की आ

JagranSat, 18 Sep 2021 04:28 PM (IST)
वरदान से कम नहीं है लांबड़ा सोसायटी का बायोगैस व वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

जागरण टीम, होशियारपुर : स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण (एसबीएमजी) की केंद्रीय टीम ने देश की आजादी के 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आजादी के अमृत महोत्सव के जश्न के बीच गांव लांबड़ा में बायोगैस प्लांट व वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा किया।

टीम में संयुक्त डायरेक्टर एसबीएम (जी) करनजीत सिंह, एसडब्ल्यूएम सलाहकार अयाम मजूमदार ने गांव लांबड़ा का दौरा कर बायोगैस प्रोजेक्ट व सप्लाई मैनेजमेंट के लिए अपनाई गई विधि का अध्ययन किया। बहुउद्देशीय लांबड़ा सहकारी सोसायटी के प्रोजैक्ट मैनेजर जसविदर सिंह ने बायोगैस प्लांट व गांव वासियों के लिए इसकी उपयोगिता के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह प्रोजैक्ट संशोधित पीएयू जनता माडल बायोगैस तकनीक पर आधारित है। उन्होंने बताया कि इस बायो गैस प्लांट की क्षमता 100 घनमीटर प्रति दिन है व जून 2016 में इसे चालू किया गया था। वर्तमान में 46 घरेलू बायोगैस कनेक्शन चालू हैं और करीब 2500 किलोग्राम पशु गोबर प्रतिदिन एकत्र किया जाता है।

उन्होंने बताया कि गांव से गोबर एकत्र किया जाता है और इलेक्ट्रानिक तोल पैमाने पर तोला जाता है, रीडिग को सोसायटी के मोबाइल एप्लीकेशन पर दर्ज किया जाता है। बायो गैस की आपूर्ति ओवरहेड आपूर्ति पाइपलाइन के माध्यम से घरों में की जाती है। जसविदर सिंह ने बताया कि गांव लांबड़ा के एक घर के लिए बायोगैस, एलपीजी से करीब तीन गुणा सस्ती हो गई है। उन्होंने बताया कि सोसायटी की ओर से सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल लांबड़ा को विद्यार्थियों के मिड डे मील के लिए भी बायो गैस प्रदान की जा रही है।

बायोगैस प्लांट से निकलने वाले घोल की आपूर्ति सोसायटी की ओर से टैंकर के माध्यम से उपभोक्ता के खेत में की जाती है। उन्होंने बताया कि 600 रुपये प्रति टैंकर (5000 लीटर) उन सदस्यों से वसूले जाते हैं जो पशुओं के गोबर की सप्लाई करते हैं व अन्यों से जो पशुओं के गोबर की सप्लाई नहीं करते उनसे 800 रुपये प्रति टैंकर (5000 लीटर) चार्ज किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि चार गांवों लांबड़ा, कांगड़ी, ददियाना कलां व बग्गेवाल के सभी घरों को कवर करने का प्रयास किया जा रहा है।

केंद्रीय टीम ने गांव के वेस्ट वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का भी दौरा किया। गांव का वेस्ट वाटर ड्रेनेज चैनल के माध्यम से प्लांट में जाता है व फ्लाई एश पर आधारित ट्रीटमेंट तकनीक का प्रयोग कर इसको ट्रीट किया जाता है। इस प्लांट में चार लाख लीटर पानी के स्टोरेज की क्षमता है व यह सौर ऊर्जा के प्रयोग से काम करता है। इसके बाद ट्रीट किया पानी सिचाई के उद्देश्य के लिए प्रयोग किया जाता है।

करनजीत सिंह ने सोसायटी की ओर से किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की व अन्य गांवों में भी ऐसे समाज आधारित माडलों को दोहराने का सुझाव दिया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सफल प्रोजेक्टों के लिए व्यवहारिक परिवर्तन गतिविधियों व सफल परियोजनाओं के लिए एक्सपोजर दौरे ओडीएफ प्लस गांव के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मार्ग प्रशस्त करेंगे, जिससे गांव का वातावरण साफ व प्रदूषण मुक्त होगा।

इस दौरान कार्यकारी इंजीनियर अश्वनी कुमार मट्टू, सर्बजीत सिंह एसडीई (सैनिटेशन), विकास सैनी, उप मंडल इंजीनियर विकास सैनी, जूनियर इंजीनियर व एडीएसओ नवनीत कुमार जिंदल भी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.