कृषि सुधार कानून के विरोध में किसानों ने केंद्र व हरियाणा सरकार का पुतला फूंका

कृषि सुधार कानून के विरोध में किसानों ने केंद्र व हरियाणा सरकार का पुतला फूंका

कृषि सुधार कानून के विरोध में दिल्ली को कूच कर रहे किसानों का रास्ता रोकने के विरोध में मानगढ़ टोल प्लाजा पर 50 दिनों से धरने पर बैठे किसानों ने केंद्र व हरियाणा सरकार का पुतला फूंक कर रोष प्रदर्शन किया।

Publish Date:Fri, 27 Nov 2020 11:03 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, गढ़दीवाला : कृषि सुधार कानून के विरोध में दिल्ली को कूच कर रहे किसानों का रास्ता रोकने के विरोध में मानगढ़ टोल प्लाजा पर 50 दिनों से धरने पर बैठे किसानों ने केंद्र व हरियाणा सरकार का पुतला फूंक कर रोष प्रदर्शन किया। इस मौके पर गन्ना संघर्ष कमेटी के महासचिव गगनदीप सिंह मोहा के नेतृत्व में किसान टोल प्लाजा पर एकत्रित हुए। केंद्र एवं हरियाणा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। वक्ताओं ने कहा कि केंद्र सरकार के इशारे पर हरियाणा सरकार ने शंभू बार्डर से लेकर दिल्ली तक जितने भी बार्डर पड़ते हैं, का रास्ता रोक कर साबित कर दिया है कि वास्तविक में ही भाजपा किसान विरोधी है। मानगढ़ टोल प्लाजा से आसपास गांवों के लगभग दो सौ के करीब किसानों का जत्था दिल्ली के लिए रवाना हुआ है और दूसरी तरफ मानगढ़ टोल प्लाजा पर किसानों ने मोर्चा संभाला हुआ है। इस कानून के खिलाफ यदि दिल्ली में आंदोलन कर किसानों की बात नहीं सुनी गई, तो आंदोलन को और तेज करेंगे। किसानों के आंदोलन में जाट महासभा भी हुई शामिल

गढ़शंकर : कृषि सुधार कानून 2020 के विरुद्ध गढ़शंकर के किसान बंगा चौक पर धरना लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसमें जाट महासभा के महासचिव अजायब सिंह बोपाराय, कलभूषण शोरी ब्राह्मण सभा गढ़शंकर, कांग्रेस ओबीसी चैयरमेन राकेश कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कृषि सुधार कानून 2020 को रद करवाने के लिए लाखों किसान दिल्ली जा रहे हैं। उन्हें रोकने के लिए हरियाणा की भाजपा ने जो घटिया हथकंडे अपनाए हैं, वे निदनीय हैं। किसान अपना हक मांग रहे हैं, देश का किसान रात दिन खेतों में रहकर अनाज पैदा करता है, जिसे देश की समस्त जनता पेट भरती है। करोड़ों लोगों का पेट भरने वाले किसान अपने हक के लिए सड़क पर है जोकि निंदनीय है जिसे देश की जनता कदापि सहन नहीं करेगी। 70 साल की कोशिशों के बाद सरकारों द्वारा जो ढांचा किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए खड़ा किया था वो भाजपा की केंद्र सरकार ने पलभर में खत्म कर दिया है। इस कानून के कारण साहूकारों को फायदा होगा। प्रदर्शन में जगमोहन राणा, सरपंच हरजिदर सिंह, बलवीर सिंह मेगा, सरपंच लखबीर सिंह, जगदीप सिंह, साबी बीनेवाल, परमजीत सिंह, सूरज खख व उदय भानू प्रताप सिंह सहित भारी संख्या में किसान उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.