एनसीईआरटी के सहायक डायरेक्टर ने अध्यापकों को मोटिवेट किया

एनसीईआरटी के सहायक डायरेक्टर ने अध्यापकों को मोटिवेट किया

सरकारी स्कूलों में बच्चों की इनरोलमेंट बढ़ाने के लिए नेशनल काउंसिल आफ रिसर्च एंड एजुकेशन ट्रेनिग (एनसीईआरटी) के सहायक डायरेक्टर शैलेंद्र सिंह सहोता ने सरकारी मिडिल स्कूल मिर्जापुर के स्टाफ के साथ विशेष बैठक की।

JagranFri, 16 Apr 2021 04:42 PM (IST)

संवाद सहयोगी, होशियारपुर : सरकारी स्कूलों में बच्चों की इनरोलमेंट बढ़ाने के लिए नेशनल काउंसिल आफ रिसर्च एंड एजुकेशन ट्रेनिग (एनसीईआरटी) के सहायक डायरेक्टर शैलेंद्र सिंह सहोता ने सरकारी मिडिल स्कूल मिर्जापुर के स्टाफ के साथ विशेष बैठक की। उन्होंने बताया कि शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिगला और शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार की कोशिश के चलते अध्यापकों की सख्त मेहनत के कारण सरकारी स्कूलों में बच्चों की संख्या पिछले वर्षो की अपेक्षा काफी बढ़ी है। इसकी उदाहरण सरकारी मिडिल स्कूल मिर्जापुर में बच्चों की संख्या देखकर मिलती है। स्कूल के मूलभूत ढांचे के विकास को उच्च स्तर पर विकसित किया जा रहा है और बच्चों को हर सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। सरकारी स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ने के पीछे मुख्य कारण यही है कि शिक्षा की आधुनिक तकनीक से पढ़ाया जा रहा है ताकि छात्र पूरा मन लगाकर पढ़ें। लोग अधिक से अधिक बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाएं क्योंकि यहां सभी सुविधाएं दी जाती हैं। प्रत्येक स्कूल में 15 प्रतिशत तक बच्चों को बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए गांव-गांव गली-गली जाकर अध्यापक बच्चों के माता-पिता को प्रेरित कर रहे हैं। सरकारी स्कूलों का स्टाफ उच्च शिक्षा प्राप्त होता है, जो एक प्रक्रिया से गुजर कर नियुक्त होता है। सहोता ने कहा कि सरकारी स्कूलों में आ‌र्ट्स के साथ-साथ साइंस स्ट्रीम भी पढ़ाई जाती है। यहीं नहीं, स्कूलों के परीक्षा परिणाम भी पहले से बहुत बेहतर है। होशियारपुर जिले में इनरोलमेंट बढ़ाने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी गुरशरण सिंह व उप जिला शिक्षा अधिकारी राकेश कुमार के नेतृत्व में प्रत्येक स्कूल अपने स्तर पर काम कर रहा है। इस मौके पर मुख्याध्यापक रविद्र पाल सिंह, परमजीत कौर, गुरमेल सिंह मिर्जापुरी, दलवीर सिंह, रजनीश कुमार गुलियानी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.