किसानों ने हाईवे पर लगाया जाम

दिल्ली में किसान मोर्चे के दौरान मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा देने की मांग को लेकर किसानों ने रविवार को फाजिल्का हाईवे जाम पर दोपहर 12 बजे जाम लगा प्रदर्शन शुरू कर दिया

JagranSun, 12 Sep 2021 09:59 PM (IST)
किसानों ने हाईवे पर लगाया जाम

संवाद सूत्र, ममदोट (फिरोजपुर) : दिल्ली में किसान मोर्चे के दौरान मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा देने की मांग को लेकर किसानों ने रविवार को फाजिल्का हाईवे जाम पर दोपहर 12 बजे जाम लगा प्रदर्शन शुरू कर दिया, जिस कारण हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लग गई। इस दौरान किसानों ने मांग की कि मोर्चे में मारे गए किसानों के परिवारों को पांच लाख रुपए का मुआवजा, एक सदस्य को सरकारी नौकरी और उनका समूह कर्ज माफ किया जाए।

इस दौरान किसान मजदूर संघर्ष समिति पंजाब के प्रधान सतनाम सिंह पन्नू, जिला प्रधान इंद्रजीत सिंह बाठ, रणबीर सिंह, नरिदरपाल सिंह जताला व धर्म सिंह सिद्धू ने कहा कि मांगें मनवाने तक पक्का मोर्चा जीटी. रोड पर चलेगा। इस दौरान किसानों ने खेल मंत्री राणा सोढी के खिलाफ भी नारेबाजी की। इस मौके गुरबख्श सिंह पंजगराईं, मंगल सिंह गुद्दड़ढंडी, मेजर सिंह गजनीवाला, मंगल सिंह सवाईके सचिव, गुरनाम सिंह अलीके, सुखविंदर सिंह खिचड़ी, अंग्रेज सिंह दीप सिंह वाला आदि नेताओं ने भी संबोधित किया। धरना स्थल पर पहुंचे गुरुहरसहाय के तहसीलदार विक्रमजीत सिंह ने मांगों को पूरा करवाने का भरोसा दिया, लेकिन किसानों ने लिखित रूप से देने का कहकर धरना खत्म न करने की बात कह दी। समाचार लिखे जाने तक किसानों का धरना जारी था।

विधायक घुबाया का किया घेराव संवाद सूत्र, फाजिल्का : पंजाब रोडवेज, पनबस व पीआरटीसी काट्रैक्ट वर्कर यूनियन द्वारा की जा रही हड़ताल रविवार को सातवें दिन में प्रवेश हो गई है। मुख्यमंत्री से बैठक का समय मिलने के बावजूद कर्मचारियों ने विधायक घुबाया के घर के समक्ष धरना दिया। हालांकि वहां पहले से ही पुलिस बल तैनात रहा, लेकिन विधायक घुबाया प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचे और उनसे ज्ञापन लिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.