नशा छोड़ने आएं अस्पताल, गुप्त रहेगी पहचान

नशा छोड़ने आएं अस्पताल, गुप्त रहेगी पहचान

डिप्टी कमिश्नर अरविदपाल सिंह संधू ने जिले में नशा निगरान कमेटी की गवनर्निंग बाडी की बैठक की अध्यक्षता करते निर्देश दिए कि स्वास्थ्य विभाग के काउंसलर गांवों में जाकर लोगों को नशों के बुरे प्रभावों के खिलाफ जागरूक करके उनको नशे छोड़ने के लिए प्रेरित करेंगे।

JagranTue, 23 Feb 2021 10:40 PM (IST)

संवाद सूत्र, फाजिल्का : डिप्टी कमिश्नर अरविदपाल सिंह संधू ने जिले में नशा निगरान कमेटी की गवनर्निंग बाडी की बैठक की अध्यक्षता करते निर्देश दिए कि स्वास्थ्य विभाग के काउंसलर गांवों में जाकर लोगों को नशों के बुरे प्रभावों के खिलाफ जागरूक करके उनको नशे छोड़ने के लिए प्रेरित करेंगे। इस दौरान वह लोगों को बताएंगे कि सरकार की ओर से नशे के मरीजों के निश्शुल्क इलाज के लिए क्या क्या प्रबंध किए गए हैं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को इस संबंधी व्यापक कार्यक्रम बनाने के आदेश दिए हैं और कहा कि इन कार्यक्रमों में संबंधित उपमंडल के एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार और थाना प्रमुख भी शिरकत करेंगे।

इस दौरान डीसी ने बताया कि जिले में नशामुक्ति केंद्र और ओट क्लीनिक चल रहे हैं। नशामुक्ति केंद्र में मरीज को भर्ती करके इलाज किया जाता है जबकि ओट क्लीनिक में मरीज को भर्ती नहीं होना पड़ता। उन्होंने जिला निवासियों से अपील की कि यदि कोई नशे से पीड़ित है तो वह बेझिझक सरकारी अस्पताल आकर अपना इलाज करवा सकता है। सरकारी अस्पताल में मरीज की पहचान पूरी तरह गुप्त रखी जाती है। बैठक में सिविल सर्जन डा. कुंदनके पाल, एसपी जगदीश बिशनोई, पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के एक्सईएन एसएस धालीवाल, एसडीओ दलजीत सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी परमजीत सिंह व अन्य उपस्थित रहे। --- प्रदूषण को कम करने संबंधी किए जाएं प्रयास

वातावरण के साथ संबंधित मुद्दों के हल के लिए डीसी अरविद पाल सिंह संधू ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ भी बैठक की। उन्होंने कहा कि प्रदूषण को कम करने के लिए प्रयास किए जाएं जिससे हम अपनी आने वाली पीढि़यों के लिए अच्छा वातावरण छोड़कर जाएं। उन्होंने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा दिए अलग-अलग आदेशें की भी पालना यकीनी बनाने के आदेश अधिकारियों को दिए। बैठक के दौरान नगर कौंसिल फाजिल्का के अधिकारियों ने बताया गया कि शहर में 100 प्रतिशत कूड़ा घरों से एकत्रित किया जा रहा है। इसी तरह अबोहर निगम द्वारा भी ऐसा किया गया है और 21 कंपोस्ट पिट भी तैयार किए गए हैं जहां कूड़े को खाद में बदला जाता है। इसी तरह नगर निगम की तरफ से प्लास्टिक के लिफाफों की बिक्री को रोकने के लिए भी सख्त प्रयास किए जा रहे हैं। फाजिल्का में नया एसटीपी बनाए जाने की सूचना भी कार्यकारी अधिकारी रजनीश कुमार ने दी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.