सफाई कर्मियों की हड़ताल से शहर में लगे गंदगी के ढेर

सफाई कर्मियों की हड़ताल से शहर में लगे गंदगी के ढेर

लंबित मांगों को पूरा किए जाने की मांग को लेकर संफाई कर्मचारियों की हडड़ताल जारी है।

JagranTue, 18 May 2021 09:40 PM (IST)

संवाद सूत्र, कोटकपूरा

लंबित मांगों को पूरा किए जाने की मांग को लेकर संघर्षरत सफाई कर्मियों की हड़ताल मंगलवार को छठे दिन भी जारी रही। हड़ताल के कारण शहर में जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हैं। सड़कें, बाजारों में कूड़ा बिखरा होने पर हवा चलने करके यह लोगों की दुकानों और घरों में जा रहा है। पुरानी अनाज मंडी, हरीनौं फाटक, सब्जी मंडी आदि डंपों से कूड़ा न उठाने के कारण कूड़ा जमा है।

समाज सेवीं प्रदीप मित्तल और हलवाई यूनियन के प्रधान शाम लाल मैंगी ने बताया कि इन कूड़ो के ढेरों कारण आम लोगों को काफी मुश्किलें पेश आ रही हैं। हालात को देखते हुए सरकार को इन कर्मचारियों की हड़ताल को खत्म करवाना चाहिए, क्योंकि आज के दौर में लोग करोना महामारी से पहले ही प्रभावित हो कर बीमार हो रहे हैं। ---------------------- लाकडाउन में गरीबों की मदद करे सरकार

संवाद सहयोगी, फरीदकोट

आम आदमी पार्टी का एक वफद डिप्टी कमिशनर के द्वारा मुख्य मंत्री पंजाब को मांगपत्र भेज कर मांग की गई है कि लाकडाउन के दौरान गरीब और जरूरतमंद परिवारों को राहत दी जाए।

अवतार सिंह सहोता, बाबा जसपाल सिंह, नक्षत्र सिंह, सुरिन्दर सिंह साधांवाला, हरजिन्दर सिंह ढिल्लवां और गुरिन्दर सिंह ने कहा कि लाकडाउन के कारण गरीब परिवार भुखमरी का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब तक लाकडाउन है तब तक गरीब लोगों को खाद्य पदार्थ मुफ्त दिया जाए। प्रति परिवार दस-दस ह•ार रुपए वित्तीय सहायता दी जाए। उन्होंने मांग की कि अस्पतालों में गरीबों के इलाज के लिए पुख्ता प्रबंध किये जाए। बाबा जसपाल सिंह ने कहा कि इस महामारी दौरान मगनरेगा मजदूरों को दिहाड़ी 600 रुपये दी जाए और अपंग विधवाएं और बुढापा पैनशन 2500 रुपए प्रति महीना के हिसाब के साथ तुरंत जारी की जाए। आप नेताओं ने कहा कि यदि पंजाब सरकार तुरंत उनकी मांगों को स्वीकार नहीं करती तो वह पंजाब सरकार खिलाफ संघर्ष शुरू करने के लिए मजबूर होंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.