रेबीज के खिलाफ किया जागरूक

डा. अवतार जीत सिंह गोंदारा सीनियर मेडिकल अफसर सीएचसी बाजाखाना के नेतृत्व में कार्यक्रम करवाया गया।

JagranTue, 28 Sep 2021 09:54 PM (IST)
रेबीज के खिलाफ किया जागरूक

संवाद सूत्र, जैतो

डा. अवतार जीत सिंह गोंदारा सीनियर मेडिकल अफसर सीएचसी बाजाखाना के नेतृत्व में नेशनल रेबीज कंट्रोल कार्यक्रम के अंतर्गत सीएचसी बाजाखाना में विश्व रेबीज दिवस मनाया गया। डा. अवतारजीत सिंह एसएमओ बाजाखाना ने कहा कि कुत्तों के काटे को अनदेखा नहीं करना चाहिए, यह जानलेवा भी हो सकता है और इस का तुरन्त डाक्टरी इलाज करवाना चाहिए। रैबीज घातक रोग है परन्तु इस से आसानी के साथ बचाव किया जा सकता है।

बीईइ सुधीर धीर और सुपरवाइजरछिन्दरपाल सिंह सेहत ने कहा कि घरों में रखे पालतू जानवरों का वेटनरी अस्पतालों से टीकाकरण होना अति जरूरी है। यदि कोई कुत्ता या कोई अन्य जानवर काट जाये तो टीकाकरण करवाने से परहेज नहीं करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जानवर के काटे जाने पर जख्म को जल्दी पानी और साबुन के साथ धोएं। बिना किसी देरी से डाक्टर के पास इलाज करवाना चाहिये। कुत्ते द्वारा काटे जाने पर इलाज के लिए टीके सरकारी जिला अस्पताल, सब डिवीजन अस्पताल और कम्यूनिटी हेल्थ सेंटरों में मुफ्त लगाए जाते हैं।

इस अवसर पर मूर्ति देवी एलएचवी, कंवलजीत कौर, सन्दीप कुमार और जगजीत सिंह आदि उपस्थित थे। ---------------- शिविर में 28 यूनिट रक्त एकत्र

संवाद सूत्र, श्री मुक्तसर साहिब

मिशन तंदरुस्त पंजाब अधीन शहीदे आजम भगत सिंह के जन्म दिवस के संबंध में सेहत विभाग द्वारा सुरिदर गुप्ता सर्वहित्कारी विद्या मंदिर के सहयोग के साथ स्कूल में रक्तदान कैंप लगाया गया। इस कैंप में प्राइवेट मेडिकल प्रेक्टिशनर एसोशिएशन का विशेष सहयोग रहा। मुख्य मेहमान सिविल सर्जन डा रंजू सिगला की तरफ से कैंप का उद्घाटन किया गया। इस दौरान डा. संतीश गोयल सीनियर मेडिकल अधिकारी, डा अमनिदर सिंह, सुखमंदर सिंह, विनोद खुराना, भगवान दास व लाल चंद जिला हेल्थ इंस्पेक्टर, मीरा लैब टैकनीशियन रवि कुमार व दिनेश कुमार काऊंसलर ने भाग लिया। सिविल अस्पताल श्री मुक्तसर साहिब की ब्लड बैंक की टीम की तरफ से 28 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। रक्तदान करने वालों का हौसला बढ़ाने के लिए मुख्य मेहमान सिविल सर्जन सिगला, रजनीश यादव, मैनेजर अशोक कुमार,पूरन चंद प्रिसिपल, सुरिदर धवन, वाइस प्रधान विशेष तौर पर पहुंचे। इस मौके डा. रंजू सिगला ने कहा कि रक्तदान एक महान दान है। हमें मानवता की सेवा के लिए रक्तदान करना चाहिए जिससे किसी भी मरीज की जान बचाई जा सके। उन्होंने कहा कि मनुष्य तीन महीनों बाद रक्तदान कर सकता है। तीन महीनों में दान किया हुआ रक्तदान शरीर में फिर से पूरा हो जाता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.