दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

चंडीगढ़ में कोविड नियमों का पालन कर युवा ले रहे साइकिलिंग का लुत्फ, फिटनेस का रख रहे ख्याल

चंडीगढ़ में साइकिलिंग करने वाले साइकिलगढ़ ग्रुप के सदस्य।

कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रशासन ने जिम बंद कर दिए हैं। साइकिलिंग करने वाले साइकिलगढ़ ग्रुप के सदस्यों ने बताया कि फिटनेस के लिए सबसे बेहतर साइकिलिंग है। इससे कोविड सुरक्षा प्रोटोकाल का भी पालन हो जाता है और आप फिट भी रहते हो।

Vinay KumarSun, 16 May 2021 03:53 PM (IST)

चंडीगढ़, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए प्रशासन ने जिम बंद कर दिए हैं। ऐसे में एक बार फिर जिम में जाने वाले युवाओं ने अपनी फिटनेस के लिए साइकिलिंग करना शुरू कर दिया है। साइकिलिंग करने वाले साइकिलगढ़ ग्रुप के सदस्यों ने बताया कि फिटनेस के लिए सबसे बेहतर साइकिलिंग है। इससे कोविड सुरक्षा प्रोटोकाल का भी पालन हो जाता है और आप फिट भी रहते हो। 

मैं पहले जिम करता था, लेकिन पिछले साल जब लॉकडाउन के दौरान जिम बंद हो गए थे, तो मैंने अपने दोस्तों के साथ फिटनेस के लिए साइकिलिंग करने का फैसला लिया। तब से लेकर यह सिलसिला अभी तक चला हुआ है। अभी हमारा अपना ग्रुप है, हम रोज साइकिलिंग करते हैं। वीकेंड के दिन हम मोरनी तक साइकिलिंग करने जाते हैं।  

सेक्टर -22 बी निवासी डॉ कुणाल जुनेजा, बिजनेसमैन।

मैं मेडिकल पढ़ने वाले बच्चों को नीट की तैयारी करवाती हूं।  बचपन से साइकिलिंग करती हूं। साइकिलिंग करना मुझे बेहद पसंद है। अपनी फिटनेस के लिए जब भी मेरे पास समय होता है मैं साइकिलिंग करती हूं। हमारे ग्रुप को बने काफी लंबा समय हो गया है, ऐसे में हर छुट्टी पर हमारा प्लान पहले ही तय होता है कि हमें 50 से 100 किलोमीटर साइकिलिंग करनी है।  

सेक्टर -46 निवासी मिशा बराड़, टीचर।

मैं सेक्टर -44 में स्टेशनरी की दुकान करता हूं। सामान्य दिनों में हमारे पास टाइम नहीं होता है, लेकिन वीकेंड के दिनों में मैं अपनी फिटनेस के लिए साइकिलिंग करता हूं। पिछले साल ही मैंने लॉकडाउन के दौरान साइकिल खरीदी थी। अभी मैं अपनी दुकान पर भी कई बार साइकिल पर ही जाता हूं।

सेक्टर -22 निवासी कमल चावला, बिजनेसमैन।

मैंने अपने स्कूल के समय में साइकिल पर स्कूल जाना शुरू किया था, कॉलेज के दौरान भी मैं अपनी साइकिल पर जाता था। अभी सर्दियों के दिनों में भी मैं अपनी साइकिल पर ऑफिस जाता हूं। मुझे अपने पर्यावरण से प्यार है, इसलिए मैं  अपनी फिटनेस और पर्यावरण के लिए साइकिलिंग को ही तरजीह देता हूं।

सेक्टर -22 निवासी मुकुल, आइटी प्रोफेशनल ।

मैं डीपीएस स्कूल 40 में पढ़ता हूं। इसके साथ मैं क्रिकेटर भी हूं अभी कोरोना संक्रमण के चलते हम ग्राउंड में नहीं खेल रहे हैं। ऐसे में अपनी फिटनेस के लिए साइकिलिंग से बेहतर कोई विकल्प नहीं है। इसमें  आप आसानी से कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन कर सकते  हैं।

सेक्टर -40 बी निवासी आर्यन गुप्ता, छात्र।

मैं एसडी कॉलेज -32 में बीसीए की पढ़ाई कर रहा हूं। पिछले साल अपनी फिटनेस के लिए मैंने साइकिलिंग खरीदी थी। इसके बाद मुझे साइकिलिंग का ऐसा चस्का लगा है कि मुझे पूरा हफ्ताभर रविवार का इंतजार रहता है, जिस दिन हम अपने दोस्तों के साथ मिलकर साइकिलिंग करें। पहले हमारे साथ 40 से 50 लोग साइकिलिंग करते थे, लेकिन अभी कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए लोग घर से बाहर निकलने को कम तरजीह दे रहे हैं।

सेक्टर-41 बी निवासी आर्यन गुप्ता, स्टूडेंट।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.