top menutop menutop menu

फीस को लेकर पीयू के फैसले से छात्र निराश, कम से कम भरने होंगे 60 हजार रुपये

फीस को लेकर पीयू के फैसले से छात्र निराश, कम से कम भरने होंगे 60 हजार रुपये
Publish Date:Sun, 09 Aug 2020 02:28 PM (IST) Author: Vikas_Kumar

चंडीगढ़, [वैभव शर्मा]। पंजाब यूनिवर्सिटी ने स्टूडेंट्स को 16 अगस्त तक फीस जमा करवाने का निर्देश दिया है। इस फैसले का जहां छात्र काउंसिल और छात्र संगठन विरोध कर रहे है, वहीं दूसरी ओर स्टूडेंट्स भी इस फैसले के विरोध में खड़े होने लग गए है। स्टूडेंट्स का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से उन्हें पहले ही बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और अब पीयू के फीस देने के फैसले ने उन्हें ओर ज्यादा पेरशानी में डाल दिया है। कैंपस में करीब पांच हजार स्टूडेंट्स ऐसे है जो मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखते है। ऐसे में एक साथ फीस की राशि देने स्टूडेंट्स के लिए संभव नहीं है। वहीं गरीब स्टूडेंट्स के लिए पीयू में चल रही योजना 'अर्न वाइन यू लर्न' के तहत उन्हें काम नहीं मिला है।

छह महीनों की फीस एक साथ मांग रहा पीयू प्रशासन

पीयू प्रशासन ने स्टूडेंट्स से जो फीस की मांग की है, वो एक या दो महीने की नहीं, बल्कि छह महीनों की है। कैंपस में हर कोर्स कर फीस अलग-अलग है। किसी भी कोर्स की फीस दस हजार रूपये से कम नहीं है। ऐसे में पीयू द्वारा छह महीनें की फीस देने का मतलब है कि स्टूडेंट्स को कम से कम 60 हजार रूपये फीस के रूप में जमा करवाने हाेंगे।

इन कोर्सिस के है इतनी फीस और अवधि

कोर्स का नाम                                  समय अवधि                                फीस

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (बीई)                     चार वर्ष                                2,68,297

मास्टर आॅफ इंजीनियरिंग (एमई)                    दो वर्ष                                 41,817

मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (एम.टेक)                   दो वर्ष                                 41,817         

डिपलोमा                                                     एक वर्ष                              18,937

मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए)  दो वर्ष                                26,817        

बैचलर ऑफ कॉमर्स (बी.काॅम)                         तीन वर्ष                                 20,800

बैचलर ऑफ साइंस ऑनर्स (बीएससी)                 तीन वर्ष                            1,89,462

मास्टर ऑफ कॉमर्स (एम.कॉम)                         दो वर्ष                                   12,414

मास्टर ऑफ साइंस (एमएससी)                        दो वर्ष                                  1,35,317

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा                                  एक वर्ष                                     7,967

बैचलर ऑफ ऑर्ट्स (बीए)                                तीन वर्ष                                20,800

बैचलर ऑफ ऑर्ट्स ऑनर्स (बीए)                     तीन वर्ष                                20,800

बैचलर ऑफ लाइब्रेरी एंड इंफोरमेशन साइंस       एक वर्ष                                 13,853

डिप्लोमा इन ह्यूमैनिटी  ऑर्ट                            एक वर्ष                                 18,937

मास्टर ऑफ ऑर्ट्स (एमए)                              दो वर्ष                                  27,087

मास्टर ऑफ लाइब्रेरी एंड इंफोरमेशन साइंस        एक वर्ष                                13,853

मास्टर ऑफ फिलॉसफी (एम.फील)                    एक वर्ष                                 9,597

बैचलर ऑफ साइंस ऑनर्स (बीएससी)                   तीन वर्ष                            1,89,462

बैचलर ऑफ डेंटर साइंस (बीडीएस)                     चार वर्ष                              4,74,128

मास्टर ऑफ डेंटर साइंस (एमडीएस)                    तीन वर्ष                             15,21,360

बैचलर ऑफ ऑर्ट्स और बैचलर आॅफ लॉ (बीए एलएलबी)     पांच वर्ष               3,13,652

बैचलर आॅफ लॉ (एलएलबी)                              तीन वर्ष                                19,387

मास्टर्स ऑफ लॉ (एलएलएम)                            एक वर्ष                                25,497

मास्टर अॉफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (एमसीए)          तीन वर्ष                               79,701

बैचलर आॅफ फिजिकल एजुकेशन (बी.पी.ऐड)       दो वर्ष                                  12,257

डिप्लोमा इन एजुकेशन                                    एक वर्ष                                18,937

मास्टर ऑफ एजुकेशन       (एमऐड)                   दो वर्ष                                14,177

मास्टर ऑफ फिजिकल एजुकेशन (एम.पी.ऐड)      दो वर्ष                                 14,177

बैचलर ऑफ फार्मेसी (बी.फार्म)                         चार वर्ष                                 30,292

मास्टर ऑफ फार्मेसी (एम.फार्म)                        दो वर्ष                                  51,234

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.