Punjab University प्रशासन से फिर हुई चूक, अब B.Com की परीक्षा में हुई गड़बड़ी

चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब यूनिवर्सिटी में इस समय विभिन्न कोर्स की परीक्षाएं चल रही हैं। मंगलवार को पीयू में बैचलर ऑफ कॉमर्स थर्ड सेमेस्टर की कंपनी लॉ विषय की परीक्षा आयोजित हुई। इसमें एक बार फिर से पिछले दिनों एसडी कॉलेज में आयोजित हाउस टेस्ट के पेपर को ही दोहरा दिया गया। विश्वविद्यालय की बी.कॉम थर्ड सेमेस्टर की परीक्षा में पूछे गए ज्यादातर प्रश्न वहीं थे जो एसडी कॉलेज में अक्तूबर माह में आयोजित हाउस टेस्ट के पेपर में पूछे गए थे।

अब सवाल उठ रहा है कि आखिर पीयू में आयोजित होने वाली परीक्षाओं में ही ऐसा क्यों हो रहा है। इससे पहले भी पीयू में आयोजित हुई कॉस्ट अकाउंट की परीक्षा में ऐसा हो चुका है। अब कंपनी लॉ की परीक्षा में ज्यादातर प्रश्न मिलते-जुलते आने से पीयू प्रशासन की ओर से की गई गड़बड़ी दोबारा सामने आ गई है। बार-बार एक ही कॉलेज का प्रश्न पत्र दोहराए जाने से एसडी कॉलेज की कार्यप्रणाली भी सवालों के घेरे में है।

कॉस्ट अकाउंट पेपर मामले में एमसीएम कॉलेज ने दी लिखित शिकायत

छह दिसंबर को पीयू में बी.कॉम थर्ड सेमेस्टर के कोस्ट अकाउंट की परीक्षा में आए प्रश्नों में से ज्यादातर पीयू बी.कॉम थर्ड सेमेस्टर के कोस्ट अकाउंट में आए थे। इस बात को लेकर एमसीएम डीएवी कॉलेज-36 ने इस मामले की शिकायत पीयू प्रशासन को दी है। उन्होंने अपनी शिकायत में यह भी लिखा है कि गलती एक बार हो सकती है बार-बार नहीं। उन्होंने पीयू प्रशासन से अपील की है कि वह इस मामले में सख्त कार्रवाई करें।

जांच के नाम पर खानापूर्ति करने में लगा विभाग

पीयू प्रशासन इस मामले में भी लापरवाह रवैया अपना रहा है। छह दिसंबर को यह घटना हुई थी और चार दिन बीत जाने के बाद भी पीयू प्रशासन की ओर से इस मामले में कोई भी कदम नहीं उठाया गया है। ऐसे में यह भी सवाल उठा रहा है कि अगर पीयू को इस मामले की शिकायत मिल चुकी है तो फिर वह किस बात का इंतजार कर रहा है। पीयू प्रशासन एक ही प्रश्न आने वाले मामलों में खानापूर्ति कर रहा है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

1952 से 2020 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.