डेराबस्सी की पीसीसीपीएल कंपनी को पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड का नोटिस, सख्त कार्रवाई के निर्देश

पंजाब केमिकल्स एवं क्रॉप प्रोटेक्शन लिमिटेड कंपनी के खिलाफ वायु व जल प्रदूषण के लेकर पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को शिकायतें मिलती रही हैं। इनमें इस्सापुर के करनैल सिंह द्वारा दायर केस नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में भी चल रहा है।

Ankesh ThakurPublish:Tue, 30 Nov 2021 02:45 PM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 02:45 PM (IST)
डेराबस्सी की पीसीसीपीएल कंपनी को पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड का नोटिस, सख्त कार्रवाई के निर्देश
डेराबस्सी की पीसीसीपीएल कंपनी को पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड का नोटिस, सख्त कार्रवाई के निर्देश

संवाद सहयोगी, डेराबस्सी। प्रदूषण रोधक उपायों की अनुपालना न करने के आरोप में पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने डेराबस्सी स्थित कंपनी पंजाब केमिकल्स एवं क्रॉप प्रोटेक्शन लिमिटेड पर कार्रवाई की है। पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने कंपनी को वाटर पॉल्यूशन एवं  एयर पॉल्यूशन एक्ट के तहत नोटिस जारी कर दिया है। इस बार कंपनी को 15 दिन के भीतर जबाब न देने पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश भी जारी किए हैं।

हालांकि 10 नवंबर को जारी हुए नोटिस के बाद 15 दिन की अवधि भी बीत चुकी है। कंपनी प्रबंधकों के अनुसार उन्होंने कंपनी की ओर से प्रदूषण रोकने के कारगर उपायों सहित तथ्यात्मक जवाब फाइल कर दिया है। 

पंजाब केमिकल्स एवं क्रॉप प्रोटेक्शन लिमिटेड कंपनी के खिलाफ वायु व जल प्रदूषण के लेकर पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को शिकायतें मिलती रही हैं। इनमें इस्सापुर के करनैल सिंह द्वारा दायर केस नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में भी चल रहा है और समय समय पर पंजाब एवं केंद्रीय प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड की संयुक्त टीमें भी एनजीटी के निर्देशों से कंपनी में प्रदूषण नियमों के अनुपालन बारे फैक्ट्री साइट में प्रदूषण मानकों की समय समय पर चेकिंग की जाती रही है। ऐसी ही एक चेकिंग में प्रदूषण नियमों पर खरा न उतरने पर कंपनी के खिलाफ 10 नवंबर को बोर्ड ने नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में वाटर (प्रीवेंशन एंड कंट्रोल आफ पॉल्यूशन) एक्ट 1974  और एयर (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल आफ पॉल्यूशन) एक्ट 1981 के तहत कंपनी के खिलाफ कार्रवाई करने के सख्त निर्देश हैं। बोर्ड अफसरों के अनुसार कंपनी द्वारा प्रदूषण की रोकथाम के लिए पर्याप्त प्रोसीजर नहीं अपनाया जा रहा है।

नोटिस की पुष्टि करते हुए कंपनी के एचआरडी चीफ यशवर्धन त्रिपाठी ने कहा कि कंपनी में उनकी नियुक्ति अभी नई हुई है। फिर भी कंपनी ने प्रदूषण बोर्ड पटियाला के पास अपना जबाब फाइल कर दिया है। उन्होंने कहा कि बोर्ड के प्रदूषण मानकों के अनुरुप कंपनी तमाम उपाय कारगर अपनाने का हरसंभव प्रयास पहले भी करती आई है और ये उपाय आगे भी जारी रहेंगे।