पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पीयू चंडीगढ़ से कर रहे हैं Phd, जल्द नाम के साथ लगेगा डॉ. चन्नी

Punjab New CM पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी मौजूदा समय में पंजाब यूनिवर्सिटी के छात्र हैं। जी हां पंजाब सीएम चन्नी इस समय पीयू के यूनिवर्सिटी स्कूल आफ ओपन लर्निंग से पीएचडी कर रहे हैं। वह जल्द ही पीयू से डाक्टरेट की उपाधि हासिल कर लेंगे।

Ankesh ThakurMon, 20 Sep 2021 02:19 PM (IST)
पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी।

चंडीगढ़, [डॉ सुमित सिंह श्योराण]। Punjab New CM: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी मौजूदा समय में पंजाब यूनिवर्सिटी के छात्र हैं। जी हां पंजाब सीएम चन्नी इस समय पीयू के यूनिवर्सिटी स्कूल आफ ओपन लर्निंग से पीएचडी कर रहे हैं। वह जल्द ही पीयू से डाक्टरेट की उपाधि हासिल कर लेंगे।

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी 'भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस: ​​इसका आंतरिक संगठन और यूपीए सरकार व मोदी युग के दौरान इसके कार्यों, भूमिका और प्रदर्शन का अध्ययन' विषय पर शोध कर रहे हैं। उनके गाइड प्रोफेसर इमैनुएल नाहर पंजाब अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन भी हैं। चन्नी 31 दिसंबर, 2017 को पीएचडी स्कालर के तौर पर पीयू में रजिस्टर्ड हुए थे। डॉ. नाहर के अनुसार चन्नी का शोध कार्य पूरा हो चुका है और एक-दो महीने में वह अपनी पीएचडी थीसेस भी जमा कर देंगे।

रिसर्च स्कालर के साथ अब पीयू सीनेट में भी

चन्नी पीयू  में अब दो भूमिकाओं में होंगे। पहला, वह पंजाब यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कालर तो हैं ही। दूसरे, वह मुख्यमंत्री बनते ही सीनेट के सदस्य भी बन जाएंगे। गौरतलब है पंजाब के मुख्यमंत्री पीयू सीनेट के एक्स ऑफिशियो मेंबर के तौर पर सीनेटर बनते हैं।

चन्नी ने चंडीगढ़ के कॉलेज से की है ग्रेजुएशन

चन्नी की कालेज स्तर की पढ़ाई भी चंडीगढ़ में ही हुई है। सेक्टर 26 के गुरु गोविंद सिंह कॉलेज से उन्होंने स्नातक की डिग्री हासिल की है। रविवार को उन्हें पंजाब का  मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा के साथ ही पीयू कैंपस  में बधाइयों का दौर शुरू हो गया। कुलपति प्रोफेसर राजकुमार ने उन्हें बधाई दी है। प्रोफेसर इमैनुएल नाहर ने कहा कि पीयू के रिसर्च स्कालर का मुख्यमंत्री बनना पूरे कैंपस के लिए खुशी की बात है। मुख्यमंत्री बनने पर उन्हें ढेरों शुभकामनाएं। गुरु गोविंद सिंह कॉलेज की प्रिंसिपल डा. नवजोत कौर और अन्य स्टाफ ने भी चरणजीत सिंह को बधाई संदेश भेजा है। डॉ. नवजोत ने कहा कि यह उनके कालेज के लिए सम्मान की बात है कि उसका स्टूडेंट मुख्यमंत्री पद तक पहुंचा है। कालेज जल्द ही उन्हें आमंत्रित कर सम्मानित भी करेगा।

विवादों में रहा था पीएचडी में रजिस्ट्रेशन

चन्नी का पंजाब यूनिवर्सिटी में पीएचडी रजिस्ट्रेशन काफी विवादों में रहा है। 2017 में चरणजीत सिंह चन्नी ने पीयू के पालिटिकल साइंस विभाग में पीएचडी रजिस्ट्रेशन के लिए एंट्रेंस टेस्ट दिया था, जिसमें वह पास नहीं हो सके थे। पीयू प्रशासन पर आरोप लगा था कि चन्नी को लाभ देने के लिए एंट्रेंस की कटआफ को 50 से घटाकर 40 कर दिया गया। इस मामले को लेकर पीयू में जबरदस्त विरोध हुआ था। तब उन्हें पालिटिकल साइंस विभाग में दाखिला नहीं मिल सका। बाद में उनकी पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस में यूजीसी के सेंटर फार द स्टडी आफ सोशल एक्सक्लूजन एंड इंक्लूसिव पालिसी में पीएचडी रिसर्च स्कालर के तौर पर रजिस्ट्रेशन हो गई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.