पंजाब-हरियाणा अपने विधायकों और अधिकारियों के लिए चंडीगढ़ में चाहते हैं लग्जरी फ्लैट, पर कोड़ी खर्चने को तैयार नहीं

पहले हरियाणा ने चंडीगढ़ को हाउसिंग प्रोजेक्ट में दो टावर विधायकों और अधिकारियों के लिए लेने पर सहमति जताई। बताया जा रहा है कि कि हरियाणा ने आइटी पार्क के ही साथ लगते सकेतड़ी में फ्लैट बनाने शुरू कर दिए हैं।

Ankesh ThakurMon, 13 Sep 2021 12:27 PM (IST)
दोनों राज्य चंडीगढ़ में अपना अधिकारी जमाने से पीछे नहीं हटते।

जागरण संववाददाता, चंडीगढ़। पंजाब और हरियाणा राज्य चंडीगढ़ में अपने माननियों और अधिकारियों के लिए सभी सुख सुविधाएं चाहते हैं। अपने विधायकों और अधिकारियों के लिए आइटी पार्क में लग्जरी हाउसिंग तो दोनों राज्य चाहते हैं। लेकिन इसके लिए एक कोड़ी खर्चने को तैयार नहीं हैं। यही वजह है कि पहले विधायकों और अधिकारियों के लिए खुद चिट्ठी लिखकर दो-दो टावर फ्लैट मांगने वाले पंजाब और हरियाणा अब चिट्ठी का जवाब तक नहीं दे रहे। पहले भी चंडीगढ़ में दोनों राज्य अपना अधिकार जताने में पीछे नहीं हटते। इतना ही नहीं सभी तरह के संसाधान चंडीगढ़ के इस्तेमाल करने के बाद मेंटेनेंस और दूसरे खर्च कभी भी साझा नहीं करते। यह खर्च चंडीगढ़ प्रशासन को उठाना पड़ता है।

सीएचबी ने प्रोजेक्ट की ड्राइंग तक कर ली तैयार

चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड (सीएचबी) आइटी पार्क में लग्जरी हाउसिंग स्कीम लांच करने की पूरी तैयार कर बैठा है। इसकी ड्राइंग तक तैयार हो चुकी है। पंजाब-हरियाणा ने अपने विधायकों और अधिकारियों के लिए 56-56 फ्लैट मांगे हैं। इसके लिए सीएचबी ने प्रोजेक्ट की 25 फीसद राशि एडवांस में जमा कराने के लिए पंजाब-हरियाणा को कहा था। कई बार रिपीट रिमाइंडर भेजने के बाद भी कोई रिस्पांस नहीं मिल रहा है। बावजूद इसके दोनों राज्य पैसे जमा नहीं करा रहे। अब डर इस बात का लग रहा है कि कहीं इस प्रोजेक्ट का हश्र भी पहले जैसा न हो।

हरियाणा ने अपनी जमीन पर शुरू की प्लानिंग

पहले हरियाणा ने चंडीगढ़ को हाउसिंग प्रोजेक्ट में दो टावर विधायकों और अधिकारियों के लिए लेने पर सहमति जताई। बताया जा रहा है कि कि हरियाणा ने आइटी पार्क के ही साथ लगते सकेतड़ी में फ्लैट बनाने शुरू कर दिए हैं। अभी ऑफिसर्स के लिए हाउसिंग प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया गया है। इससे लग रहा है कि अब आईटी पार्क प्रोजेक्ट में वह रूचि नहीं दिखा रहे।

लग्जरी हाउसिंग प्रोजेक्ट में यह सुविधाएं

6.73 एकड़ एरिया की साइट पर यह फ्लैट्स तैयार होंगे। टावर ग्राउंड प्लस सिक्स यानी सात मंजिला होगा। बेसमेंट पार्किंग के लिए होगी। यह फ्लैट मॉर्डन आर्किटेक्चर का नायाब उदाहरण होंगे। जो सभी तरह की आधुनिक सुविधाओं से सज्जित होंगे और ग्रीन बिल्डिंग कान्सेप्ट पर डेवलप किए जाएंगे। जिम, स्वीमिंग पूल, लिफ्ट, पार्किंग, सीसीटीवी, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सर्वेंट रूम की सुविधा होगी। बेसमेंट में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन होंगे। रूफटॉप सोलर प्रोजेक्ट इंस्टॉल होंगे।

विधायकों को एमएलए हॉस्टल में जगह

चंडीगढ़ में आलीशान कोठियों के लिए मंत्रियों और विधायकों में मारामारी रहती है। मंत्रियों को तो कोठी मिल जाती है, लेकिन विधायकों को सेक्टर-3 स्थित एमएलए हास्टल में बने फ्लैट्स में रहना होता है। आइएएस अधिकारियों के बीच भी कोठियों को लेकर विवाद रहता है। कई अधिकारियों को स्टेट गेस्ट हाउस में लंबे समय तक रहना होता है। इसको देखते हुए ही लग्जरी फ्लैट बनाए जा रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.