कॉमनवेल्थ गेम्स की मेजबानी के लिए तैयारियां शुरू

कॉमनवेल्थ गेम्स की मेजबानी के लिए तैयारियां शुरू

कॉमनवेल्थ गेम्स-2022 के आयोजन को अब दो साल से भी कम समय शेष रह गए।

JagranWed, 09 Dec 2020 05:52 AM (IST)

विकास शर्मा, चंडीगढ़ : कॉमनवेल्थ गेम्स-2022 के आयोजन को अब दो साल से भी कम समय शेष रह गए। यह बड़ा टूर्नामेंट 28 जुलाई 2022 से इंग्लैंड के बर्मिंघम में आयोजित होगा, लेकिन शूटिग और आर्चरी के इवेंट्स चंडीगढ़ में होंगे। कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन (सीजीएफ) ने भी दस महीने पहले इसकी हामी भर दी थी। कोविड महामारी के बीच अब जब सब कुछ सामान्य हो रहा है तो मेजबान यूटी प्रशासन ने भी इसकी तैयारियों को लेकर कमर कस ली है। इसी कड़ी में सोमवार को पटियाला की राव शूटिग रेंज-25 में प्रशासक वीपी सिंह बदनौर पूरे प्रशासनिक अमले के साथ पहुंचे। उनके साथ एडवाइजर मनोज परिदा, चीफ इंजीनियर मुकेश आनंद, होम सेक्रेटरी अरुण कुमार गुप्ता, डीजीपी संजय बेनीवाल, एसएसपी कुलदीप चहल, एसपी सिटी विनीत कुमार, फोरेस्ट के चीफ कंजर्वेटर ऑफिसर देबेंद्र दलाई, नगर निगम के कमिश्नर केके यादव और स्पो‌र्ट्स डायरेक्टर तेजदीप सिंह सैनी मौजूद रहे। शूटिग इवेंट के लिए इस इंफ्रास्ट्रक्चर को करना है अपडेट

कॉमनवेल्थ गेम्स में लिए पटियाला की राव शूटिग रेंज-25 को पूरी तरह से नए सिरे से तैयार किया जाना है। इंफ्रास्ट्रक्चर को डेवलप करने के लिए फोरेस्ट विभाग ने 11.65 एकड़ जमीन भी जून महीने में ही प्रशासन को दे दी थी। मौजूदा समय में शूटिग रेंज-1 में 10 मीटर की शूटिग होती है, शूटिग रेंज दो पर 25 मीटर की, शूटिग रेंज तीन और चार में 50 मीटर की और शूटिग रेंज पांच में 300 मीटर की थ्री पोजीशन (बैठकर, खड़े होकर, लेटकर) शूटिग इवेंट होते हैं। इन सभी शूटिग रेंज में फिलहाल मैनुअल टारगेट हैं, जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स जैसे बड़े इवेंट के लिए इलेक्ट्रोनिक शूटिग टारगेट की जरूरत है। इसके अलावा इस शूटिग रेंज में टारगेट भी बढ़ाने पड़ेंगे। गौरतलब है कि कॉमनवेल्थ नेशन में 53 देश हैं, जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स 71 टीमें हिस्सा लेती हैं। ऐसे में कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान हर इवेंट्स के लिए 80 टारगेट चाहिए, जबकि पटियाला की राव शूटिग रेंज में अभी हर इवेंट के 30 से 35 टारगेट हैं। इसके अलावा पटियाला की राव शूटिग रेंज में अभी तक ट्रैप एंड स्कीट की रेंज नहीं है, जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स में ट्रैप एंड स्कीट की भी प्रतियोगिता होनी है। ऐसे में शूटिग रेंज -25 में ट्रैप एंड स्कीट स्पर्धा के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। बदनौर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि तमाम कामों को एक साथ युद्ध स्तर शुरू किया जाए, ताकि इस बड़े इवेंट्स में किसी तरह की कोई कमी नहीं दिखे। समय पर पूरा हो जाएगा निर्माण कार्य

चीफ इंजीनियर मुकेश आनंद ने कहा कोरोना महामारी के चलते इस काम को शुरू करने में देरी जरूर हुई है, लेकिन हम समय इस निर्माण कार्य को समय पर पूरा कर लेंगे। जल्द इसका निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर शुरू होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.