नयागांव से गायब हुए तीनों बच्चों को पुलिस ने ढूंढ निकाला, अपने लाडलों को देख घरवालों के छलक पड़े आंसू

नयागांव की जनता कॉलोनी में गली में खेल रहे तीन बच्चे अचानक घर के बाहर से गायब हो गए थे। तीन मासूमों को पुलिस ने 24 घंटों से पहले ही ढूंढ निकाला। बच्चों के घरवालों और कॉलोनी के लोगों ने राहत की सांस ली और पुलिस का आभार जताया।

Ankesh ThakurPublish:Mon, 22 Nov 2021 03:59 PM (IST) Updated:Mon, 22 Nov 2021 03:59 PM (IST)
नयागांव से गायब हुए तीनों बच्चों को पुलिस ने ढूंढ निकाला, अपने लाडलों को देख घरवालों के छलक पड़े आंसू
नयागांव से गायब हुए तीनों बच्चों को पुलिस ने ढूंढ निकाला, अपने लाडलों को देख घरवालों के छलक पड़े आंसू

संवाद सहयोगी, नयागांव। नयागांव की जनता कॉलोनी में गली में खेल रहे तीन बच्चे अचानक घर के बाहर से गायब हो गए थे। तीन मासूमों को पुलिस ने 24 घंटों से पहले ही ढूंढ निकाला। पुलिस के साथ अपने दिल के टूकड़ों को देककर घरवालों के आंखों से खुशी के आंसू छलक पड़े। बच्चों को ढूंढने पर घरवालों और कॉलोनी के लोगों ने राहत की सांस ली और पुलिस का आभार जताया।

रविवार सुबह करीब 9:30 बजे तीन बच्चे घर के बाहर से लापता हो गए थे। गायब हुए बच्चों में शुभम और शिवा दोनों सगे भाई हैं। वहीं, तीसरा बच्चा आदि उनके पड़ोस में रहता है। रविवार सुबह तीनों बच्चे अपने मोहल्ले की गली में खेल रहे थे, जिसके बाद तीनों गायब हो गए। परिवार वालों ने शाम तक बच्चों को हर जगह ढूंढा लेकिन उनका कहीं कोई सुराग नहीं लगा। इसके बाद परिवार वालों ने बच्चों के लापता होने की शिकायत देर शाम नयागांव पुलिस को दी थी। थाना प्रभारी सुनील कुमार शर्मा ने बच्चों को ढूंढने के लिए देर रात तक सर्च अभियान भी चलाया था, लेकिन बच्चों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद बच्चों को ढूंढने के लिए पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाई गई।

पुलिस ने गलियों और घरों में लगे सीसीटीवी कैमरों को चेक किया और साथ ही साथ सोशल मीडिया और आसपास के थानों की पुलिस को भी बच्चों के गायब होने की सूचना फ्लैश की। ऐसे में नयागांव पुलिस की मेहनत रंग लाई और पुलिस ने नयागांव से लगभग 10 से 12 किलोमीटर दूर गांव माजरी में बच्चों के होने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी एएसआइ इकबाल सिंह के साथ मौके पर पहुंचे व बच्चों को लेकर नयागांव थाने आए। थाना प्रभारी ने बताया कि बच्चे घूमते फिरते पैदल ही गांव माजरी तक पहुंच गए थे। इसके बाद पुलिस ने बच्चों के घरवालों को थाने बुलाया और उन्हें घरवालों को सौंप दिया गया। घरवाले ने बच्चों को गोद में लेकर राहत की सांस ली और पुलिस का आभार जताया।