दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

कीमती हैं सासें... ऑक्सीजन टैंकर को चंडीगढ़ तक पहुंचाने के लिए एस्कॉर्ट करगी पुलिस, DGP को लिखा पत्र

ऑक्सीजन टैंकर को चंडीगढ़ तक पहुंचाने के लिए एस्कॉर्ट करगी पुलिस।

कोरोना मरीजों के लिए इस समय सबसे जरूरी मेडिकल ऑक्सीजन है। हालांकि चंडीगढ़ में अभी तक हालात बेहतर हैं। बावजूद ऑक्सीजन की कमी और देरी से किसी मरीज की जान न जाए इसके लिए चंडीगढ़ प्रशासन भरसक प्रयास कर रहा है।

Ankesh ThakurThu, 06 May 2021 11:23 AM (IST)

चंडीगढ़, जेएनएन। कोरोना मरीजों के लिए इस समय सबसे जरूरी मेडिकल ऑक्सीजन है। देशभर के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की जान जा रही है। हालांकि चंडीगढ़ में अभी तक हालात बेहतर हैं। बावजूद ऑक्सीजन की कमी और देरी से किसी मरीज की जान न जाए इसके लिए चंडीगढ़ प्रशासन भरसक प्रयास कर रहा है।

चंडीगढ़ के हेल्थ कम प्रिंसिपल सेक्रेटरी होम एके गुप्ता ने डीजीपी संजय बेनिवाला को इनोक्स बारोटीवाला बद्दी से चंडीगढ़ पहुंचने वाले मेडिकल ऑक्सीजन टैंकर की सुरक्षा के लिए एस्कॉर्ट मुहैया कराने के लिए पत्र लिखा है। गुप्ता ने कहा कि सीएचबी सीईओ कम नोडल अधिकारी ऑक्सीजन ने सुरक्षा को देखते हुए एस्कॉर्ट की जरूरत बताई है। हिमाचल प्रदेश के बद्दी से चंडीगढ़ आने वाली लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की पहुंच सुनिश्चित कराने के लिए इसे जरूरी बताया है। यह पहुंचने का समय कम करेगा साथ ही किसी अनावश्यक समस्या से भी बचाएगा।

बता दें केंद्र सरकार ने चंडीगढ़ को रोजाना 20 मीट्रिक टन ऑक्सीजन कोटा  तय कर रखा है। यह बद्दी से ही चंडीगढ़ पहुंचता है। ऑक्सीजन की जरा भी देरी जान लेती रही है यह वाक्या यहां न हो इसलिए ऐसा प्रावधान करने की मांग की है।

कोरोना मरीज को स्मार्ट मोबाइल रखने की मंजूरी नहीं

कोविड वार्ड में अभी तक मरीजों को मोबाइल फोन रखने की मंजूरी नहीं है। इसके पीछे कारण यह है कि पहले कई बार मरीज मोबाइल फोन से फोटो, वीडियो लेने के बाद उसे वायरल करते थे। यह मेडिकल स्टाफ और दूसरे पेशेंट की मर्जी के खिलाफ था। इसको देखते हुए आइसीयू के अंदर फोन को मंजूरी नहीं रहेगी। पेशेंट की उसके स्वजनों से मोबाइल इंटरेक्शन विशेष तौर पर उपलब्ध टैबलेट्स से कराई जाएगी। कोविड वार्ड में नॉन स्मार्ट फोन (बटन फोन) की मंजूरी रहेगी। इसके साथ यह शर्त रहेगी कि मरीज के फोन रखने से किसी को परेशानी न हो वह शोर न करे। ऐसा करने पर उसको यह सुविधा वार्ड में बाकी समय के लिए नहीं मिलेगी। यह निर्णय सीएचबी चीफ एग्जीक्यूटिव इंजीनियर कम नोडल अधिकारी जीएमसीएच यशपाल गर्ग की अगुवाई में वर्चुअल मीटिंग में लिया गया। इसके अलावा वार्ड में कोविड पेशेंट के स्वजनों की एंट्री पर रोक रहेगी। इस पर डॉक्टरों ने कहा कि एंट्री से इंफेक्शन फैलने का खतरा अधिक रहेगा। पीपीई किट और दूसरे नियमों का पालन नहीं होगा। केवल नेत्रहीन जैसे दिव्यांग पेशेंट के स्वजन को ही विशेष मंजूरी रहेगी।

कोविड वार्ड में वेंटिलेटर ठीक करने से इन्कार

जीएमसीएच-32 के सीवी 200 वेंटिलेटर की रिपेयर के लिए जो इंजीनियर बुलाया था उसने कोविड वार्ड में दाखिल होकर वेंटिलेटर ठीक करने से इन्कार कर दिया। तर्क दिया कि उनकी कंपनी की यह पॉलिसी है। इसके बाद नए इंजीनियर को हायर किया गया है। स्पेयर पार्ट आने पर कुछ दिनों में छह वेंटीलेटर काम करना शुरू कर देंगे। 50 फ्लो सेंसर खरीदने की मंजूरी भी मिल गई है।वार्ड में अतिरिक्त अटेंडेंट सफाईकर्मी रखने के लिए 20 कर्मी रखे जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.