ओपन एयर जिम में लगाए उपकरण दो दिन में ही टूटे, लोग बोले-‍विजिलेंस करे मामले की जांच

[राजेश ढल्ल, चंडीगढ़ ] शहर में लगे ओपन एयर जिम की क्वालिटी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सांसद के उद्घाटन के बाद सेक्टर-22 सी में लगे ओपन एयर जिम के सात में से एक उपकरण टूट गया था, अभी इस उपरकरण (इक्यूपमेंट) को ही बदला गया था कि सोमवार सुबह सवेरे 7.15 बजे जब लोग एक्सरसाइज करने के लिए पहुंचे तो दो उपकरण और टूट गए। दो दिन में तीन उपकरण टूटने से लोगों में नगर निगम के प्रति भारी रोष है। टूटने के बाद यहां पर लोगों ने गुस्सा भी जाहिर किया। विजिलेंस जांच होनी चाहिए। मालूम हो कि शनिवार को सांसद किरण खेर ने यहां पर नए बने ओपन एयर जिम का उद्घाटन किया था।

शहर में लगे सभी जिमों की होनी चाहिए विजिलेंस जांच

वहीं कांग्रेस ने इस मामले में विजिलेंस जांच की मांग कर दी है। कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा का कहना है कि भाजपा के शासन में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। जिसका नतीजा यह है कि दो दिन भी शहर के ओपन एयर जिम लगने के बाद टूट रहे हैं। इससे पहले सेक्टर-56 के पार्क में  भी ओपन एयर जिम लगने के बाद टूट चुका है। इस समय शहर में 40 से ज्यादा पार्कों में ओपन एयर जिम लगे हैं। उस समय भी पार्षद सतीश कैंथ ने कमिश्रर को शिकायत की थी, लेकिन उस शिकायत का भी कुछ नहीं हुआ।

फिर शहर की हरियाली कहां बची रहेगी

इस समय शहर के पार्कों में ओपन एयर जिम लगाने का काम बागवानी विभाग को दिया हुआ है। जबकि बागवानी विभाग के कर्मचारियों का काम पार्क का रखरखाव और हरियाली को बचाए रखना है। जिम में लगने वाली सामग्री की उन कर्मचारियों को कोई जानकारी नहीं है। पर्यावरण प्रेमी राहुल महाजन का कहना है कि जिम लगाने का काम बागवानी विभाग के अधिकारियों को दिया हुआ है जबकि यह काम इंजीनियरिंग विंग को देना चाहिए क्योंकि बागवानी विभाग के कर्मचारियों को जिम की सामग्री की टेक्नीकल जानकारी नहीं होती।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.