top menutop menutop menu

सावन का आखिरी सोमवारः सेक्टर-46 मंदिर में उमड़ी भक्तों की भीड़, लगे बम-बम भोले के जयघोष

सावन का आखिरी सोमवारः सेक्टर-46 मंदिर में उमड़ी भक्तों की भीड़, लगे बम-बम भोले के जयघोष
Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 05:33 PM (IST) Author: Pankaj Dwivedi

चंडीगढ़, जेएनएन। सावन के अंतिम सोमवार को शिवालयों में शिव भक्तों का तांता लगा रहा। भक्तों ने अपने आराध्य देव भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। शहर के सभी मंदिरों के शिवालयों में हर-हर महादेव के जयकारे लगते रहे। सुबह-सवेरे ही बड़ी संख्या में भक्त मंदिरों में अपने परिवार के साथ पहुंचे। सुबह चार बजे मंदिरों के कपाट खुल गए थे। भक्तों ने दोपहर तक भगवान शिव शंकर की पूजा-अर्चना और जलाभिषेक किया। इस दौरान मंदिर कमेटियों की ओर से खीर और मालपुए का लंगर भी लगाया गया।

सेक्टर-46 के श्री सनातन धर्म मंदिर में भी शिवलिंग पर बड़ी संख्या में भक्तों ने पूजा अर्चना कर जलाभिषेक किया। बेलपत्र व अन्य पूजन सामग्री भगवान शिव को अर्पित की गई। शिवलिंग का फूलों से भव्य शृंगार किया गया। मंदिर के पुजारी पंडित राहुल और मदन  गोपाल ने बताया कि बड़ी संख्या में लोगों ने मंदिर में आकर पूजा अर्चना की और अपने आराध्य देेेव भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। इस मौके सावन माह के अंतिम सोमवार के मद्देनजर आज कई भक्तों ने उद्यापन भी किया, जोकि शाम तक चलता रहा।

इस अवसर पर श्री सनातन धर्म सभा सेक्टर 46 के प्रेसीडेंट जतिंदर भाटिया, जनरल सेक्रेटरी सुशील सोबत, फाइनेंस सेक्रेटरी धर्मपाल गुप्ता, सेक्रेटरी डीडी शर्मा, सेक्रेटरी आरके जोशी, सेक्रेटरी नरिंदर भाटिया  भी उपस्थित थे।

श्री सनातन धर्म सभा सेक्टर 46 के प्रेसीडेंट जतिंदर भाटिया ने बताया कि सावन के आखिरी सोमवार को मंदिर में भगवान शिव शंकर का पूजा अर्चना के साथ जलाभिषेक किया गया। भोलेनाथ को पूजन सामग्री अर्पित कर समस्त मानवजाति के कल्याण की मंगलकामना की गई। इस दौरान कोरोना वायरस को लेकर जारी गाइडलाइंस जैसे फेस मास्क, शारीरिक दूरी आदि दिशा-निर्देशों का भी पूरी तरह से पालन किया गया। उन्होंने कहा कि प्रभू शिवशंकर से वैश्विक महामारी कोविड-19 के संपूर्ण विनाश की भी प्रार्थना की गई।

खीर और मालपूए का भी लगा लंगर

सावन में खीर के साथ मालपूए के लंगर लगाए जाते हैं। इस बार करोना वायरस महामारी के चलते शहर के मंदिरों ने इसे लगाने से इनकार कर दिया था। सनातन धर्म मंदिर सेक्टर 40 में सावन के अंतिम सोमवार को लंगर का आयोजन किया जिसमें शिवालय में आने वाले सभी श्रद्धालुओं को प्रसाद के तौर पर खीर और मालपूए खिलाए गए। मंदिर के प्रेसीडेंट जितेंद्र भाटिया ने बताया कि हमारा उद्देश्य भगवान भोले की पूरे नियमों के साथ पूजा करना है ताकि हमारी श्रद्धा भी पूरी हो सके और भगवान भोले तक हमारा अनुरोध भी पहुंच सके। विश्व करोना वायरस महामारी से मुक्ति पा सके।

फूलों और ड्राई फ्रूट से की शिवलिंग की सजावट

सावन के सोमवार को दोपहर 12 बजे तक जलाभिषेक के साथ पूजा अर्चना करने के बाद भगवान शिव के अंश शिवलिंग का विशेष श्रृंगार किया जाता है। शहर के विभिन्न मंदिरों में अंतिम सोमवार को फूलों के इलावा ड्राई फ्रूट के साथ भी भगवान शिव का श्रृंगार किया गया, जो कि देखते ही बनता था।

 

 

 

 

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.