कोरोना का नया वेरिएंट हो सकता है घातक, चंडीगढ़ प्रशासन ने तीसरी लहर को लेकर जारी की एडवाइजरी

कोरोना का नया वेरिएंट खतरनाक साबित हो सकता है। इसमें तेजी से परिवर्तन हो रहा है। नए वेरिएंट और तीसरी लहर से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए चंडीगढ़ प्रशासन ने शुक्रवार देर शाम एडवाइजरी भी जारी कर दी है।

Kamlesh BhattFri, 26 Nov 2021 07:38 PM (IST)
कोरोना का नया वेरिएंट हो सकता है खतरनाक। सांकेतिक फोटो

चंडीगढ़, [विशाल पाठक]। दक्षिण अफ्रीका और हांगकांग में कोरोना का नया वेरिएंट पाया गया है, जो कि पहले वाले वेरिएंट से काफी घातक है। इस नए वेरिएंट में तेजी से परिवर्तन (म्यूटेशन) हो रहा है। नए वेरिएंट की पहचान बी.1.1.529 के रूप में हुई है। हालांकि चंडीगढ़ में अब तक इस वेरिएंट का एक भी मामला सामने नहीं आया है, लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश को नए वेरिएंट और तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। नए वेरिएंट और तीसरी लहर से शहरवासियों को सुरक्षित रखने के लिए प्रशासन ने शुक्रवार देर शाम एडवाइजरी भी जारी की।

महामारी की दूसरी लहर में डेल्टा वेरिएंट रहा खतरनाक

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में शहर में सबसे ज्यादा डेल्टा वेरिएंट घातक साबित हुआ, जबकि डेल्टा प्लस वेरिएंट से शहर सुरक्षित रहा। शहर में ज्यादातर मामलों में डेल्टा वेरिएंट के अलावा अल्फा व बाकी वेरिएंट की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने बीते तीन से 18 अगस्त के बीच नेशनल सेंटर फार डिजिज कंट्रोल (एनसीडीसी) लैब को कुछ सैंपल जांच के लिए भेजे थे। 27 कोविड सैंपल में से 25 सैंपल में डेल्टा वेरिएंट की पुष्टि हुई थी।

दूसरी लहर में डेल्टा वेरिएंट (बी.1.617.2) की चपेट में सबसे ज्यादा लोग आए। 61 फीसद कोरोना संक्रमित मरीजों में डेल्टा वेरिएंट की पुष्टि हुई थी। डेल्टा वेरिएंट के अलावा 30 फीसद संक्रमित मरीजों में अल्फा वेरिएंट (बी.1.1.7) की पुष्टि हुई थी। वहीं, नेशनल सेंटर फार डीजिज कंट्रोल (एनसीडीसी) को कोरोना की दूसरी लहर में भेजे गए सैंपल में 92 फीसद चंडीगढ़ के लोगों के थे। 5 से 24 मई 2021 के बीच लिए गए 25 कोविड सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। इन सैंपल में से अधिकतर में डेल्टा वेरिएंट (बी.1.617.2) की पुष्टि हुई थी।

क्या करें

जिन लोगों ने अब तक वैक्सीन नहीं लगवाई है, वह फौरन टीकाकरण कराएं। हाथों को साबुन और पानी से धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल करें। छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल से ढकें छींकते और खांसते समय तुरंत बाद इस्तेमाल किए गए टिश्यू को बंद डिब्बे में फेंक दें। भीड़ और बंद जगहों से बचें। सार्वजनिक स्थानों पर शारीरिक दूरी (न्यूनतम एक मीटर) अवश्य बनाए रखें। सार्वजनिक स्थानों पर हमेशा मास्क पहनें। यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं (बुखार, सांस लेने में कठिनाई और खांसी) तो डॉक्टर से मिलें। डाक्टर के पास जाते समय पहनें मुंह और नाक को ढकने के लिए मास्क का प्रयोग करें। कोरोना के लक्षण होने पर हेल्पलाइन नंबर-9779558282 पर काल करें।

क्या न करें

अगर आपको खांसी और बुखार हो रहा है तो किसी के भी निकट संपर्क से बचें। अपने हाथों से अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें। सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.