Punjab New Cabinet: पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी की कैबिनेट के मंत्रियों के नाम आज हो सकते हैं तय, फाइनल फैसला लेंगे राहुल गांधी

Punjab New Cabinet पंजाब में अभी मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी की कैबिनेट के मंत्रियों पर फैसला आज हो सकता है। नए मंत्रियों पर सीएम चन्‍नी और पंजाब कांग्रेस क‍े अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू की पार्टी प्रभारी हरीश रावत से बात हुई लेकिन अब इस पर अंतिम फैसला राहुल गांधी करेंगे।

Sunil Kumar JhaWed, 22 Sep 2021 12:36 PM (IST)
नवजोत सिंह सिद्धू और हरीश रावत के साथ पंजाब के मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी।

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। Punjab New Cabinet: पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी की कैबिनेट के मंत्रियों के नाम अभी तय नहीं हो सके हैं। सीएम कल पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजाेत सिंह सिद्धू और उपमुख्‍यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा व ओपी सोनी के साथ दिल्‍ली गए थे व उनका इस पर पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत के साथ चर्चा हुई। लेकिन इस दौरान कोई फैसला नहीं हो सका। इस पर फाइनल निर्णय कांग्रेस के पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी करेंगे। बताया जा रहा है कि आज राहुल गांधी मंत्रियों को लेकर फैसला ले सकते हैं।

पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लिए दो दिन का समय पूरा होने के बाद भी उनकी कैबिनेट तैयार नहीं हो पाई है। बताया जा रहा था कि मुख्यमंत्री बनाए जाने के बाद जल्द ही नई कैबिनेट की घोषणा हो जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया है।

कैबिनेट को अंतिम रूप देने के लिए चन्नी प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू, उप मुख्यमंत्रियों सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओपी सोनी के साथ मंगलवार को नई दिल्ली गए थे और प्रदेश प्रभारी हरीश रावत के साथ बैठक की थी। बैठक में कैबिनेट को लेकर कोई फैसला नहीं हो पाया। पार्टी सूत्रों का कहना है कि चन्नी की कैबिनेट पर राहुल गांधी ही अंतिम निर्णय लेंगे परंतु वह अभी हिमाचल प्रदेश में है। बताया गया है कि आज राहुल गांधी के दिल्ली पहुंचने के बाद ही कोई अंतिम निर्णय लिया जा सकेगा।

यह भी पढें : निराले अंदाज में दिखे पंजाब के सीएम चरणजीत चन्‍नी और नवजोत सिद्धू ने टी स्‍टाल पर लिया चाय व कचौरी का आनंद

पार्टी सूत्रों के अनुसार उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने पार्टी पर उन्हें गृह विभाग देने का दवाब बनाना शुरू कर दिया है। रंधावा ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की खिलाफत के दौरान कोटकपूरा और बहिबलकलां कांड का मुद्दा उठाया था। रंधावा इस बात पर ज्यादा जोर देते आए है कि बेअदबी कांड के दोषियों को सजा दिलवाई जाए। वैसे अब तक मुख्यमंत्री गृह विभाग अपने पास ही रखते आए हैं। हालांकि अकाली-भाजपा सरकार के दौरान तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने गृह विभाग अपने पास रखा था।

मुख्यमंत्री चन्‍नी ने अंबिका सोनी से भी की मुलाकात

मुख्यमंत्री चन्नी ने सिद्धू, रंधावा और सोनी के साथ अंबिका सोनी से भी अनौपचारिक मुलाकात की। माना जा रहा है कि अंबिका सोनी के कारण ही चन्नी मुख्यमंत्री बन पाए हैं। दरअसल पार्टी की ओर से सुनील जाखड़ को नया मुख्यमंत्री बनाने का मन बना लिया था, क्योंकि 40 विधायक उनके हक में थे लेकिन अंबिका सोनी ने राहुल गांधी के मुलाकात कर पंजाब में किसी सिख को ही मुख्यमंत्री बनाने की मांग की थी। इसके बाद पार्टी हाईकमान ने चन्नी के रूप में पंजाब को नया मुख्यमंत्री दिया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.