top menutop menutop menu

लेबर वेलफेयर फंड सीधे बोर्ड के नाम करवाना होगा जमा, पंजाब ने किए विभागों को निर्देश जारी

लेबर वेलफेयर फंड सीधे बोर्ड के नाम करवाना होगा जमा, पंजाब ने किए विभागों को निर्देश जारी
Publish Date:Tue, 04 Aug 2020 11:02 AM (IST) Author: Kamlesh Bhatt

चंडीगढ़ [इन्द्रप्रीत सिंह]। Labor Welfare Fund: कोरोना के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने, एकमुश्त दो-दो हजार रुपये उनके खातों में देने जैसे कदम जिस फंड के जरिए उठाए जाते रहे हैं उसमें पैसा निरंतर नहीं आ रहा है। पता चला है कि जिन महकमों की ड्यूटी इस फंड को इकट्ठा करके देने में लगी हुई है, वे महीनों इसमें पैसा जमा ही नहीं करवाते। इन्हीं सब दिक्कतों को देखते हुए लेबर विभाग ने सभी संबंधित विभागों को निर्देश जारी किए हैं कि कंस्ट्रक्शन का एक फीसद पैसा पंजाब कंस्ट्रक्शन एंड अदर लेबर वेलफेयर बोर्ड के नाम पर ही लिया जाए और उसे तुरंत विभाग के खाते में जमा करवाया जाए।

पंजाब के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी वीके जंजुआ ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि कानून में कंस्ट्रक्शन वर्क का एक फीसद पैसा लेना श्रम विभाग का काम है, लेकिन विभाग ने अपनी यह शक्तियां उन विभागों को दी हुई हैं जो यह पैसा इकट्ठा करते हैं। मसलन, शहरों में होने वाली आवासीय कंस्ट्रक्शन पर लगने वाले सेस को इकट्ठा करने का काम स्थानीय निकाय के पास है जिनकी म्युनिसपल कमेटियां, नगर निगम आदि नक्शा पास करवाने के समय यह पैसा संबंधित लोगों से लेते हैं।

उन्हें उसी समय यह पैसा जमा करवाना होता है लेकिन देखने में आया है कि ऐसा नहीं हो रहा है। यही हाल दूसरे महकमों का भी है। इसलिए हमने एक तो सभी विभागों से कहा है कि वे जो भी पैसा इकट्ठा करें उसे पंजाब कंस्ट्रक्शन एंड अदर लेबर वेल्फेयर बोर्ड के नाम पर लें, ताकि यह पैसा सीधा बोर्ड को मिल सके।

इसके अलावा हम यह आकलन भी कर रहे हैं कि पंजाबभर में एक साल में कितना काम होता है और उसका औसतन कितना पैसा इस फंड में जमा होना चाहिए। अभी यह आकलन संबंधित विभागों की ओर से ही किया जा रहा है । यह पावर हम अपने विभाग के अधिकारियों को भी देंगे कि वह इसकी जांच करते रहें।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.