खेलो इंडिया के लिए हरियाणा तैयार, सीएम मनोहर लाल बोले- ओमिक्रोन पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता

हरियाणा को खेलो इंडिया की मेजबानी मिली है। इसके लिए सीएम मनोहर लाल ने खेल मंत्रालय का आभार जताया। कहा कि वह इसके लिए तैयार हैं। कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रान पर उन्होंने कहा कि इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

Kamlesh BhattPublish:Sat, 04 Dec 2021 02:15 PM (IST) Updated:Sat, 04 Dec 2021 04:19 PM (IST)
खेलो इंडिया के लिए हरियाणा तैयार, सीएम मनोहर लाल बोले- ओमिक्रोन पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता
खेलो इंडिया के लिए हरियाणा तैयार, सीएम मनोहर लाल बोले- ओमिक्रोन पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता

विकास शर्मा, चंडीगढ़। ''कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रान को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। यह स्थिति और समय पर निर्भर करेगा, बावजूद इसके हम पंचकूला के ताऊ देवी स्टेडियम में खेलो इंडिया यूथ गेम्स आय़ोजन को लेकर पूरी तरह से तैयार हैं।'' यह बात हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने कही। वह शनिवार को तैयारियों का जायजा लेने के लिए पहुंचे थे। उनके साथ खेल मंत्री संदीप सिंह और खेल निदेशक पंकज नैन भी मौजूद थे। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अलग-अलग खेल स्टेडियमों में जाकर निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान वह काम से संतुष्ट नजर आए और उन्होंने कहा कि वह 31 दिसंबर तक स्टेडियम के निर्माण से जुड़े सभी तमाम कार्य पूरे हो जाएंगे। इसके बाद स्थानीय खिलाड़ियों को प्रेक्टिस की अनुमति दी जाएगी, अगर कोई कमी रह गई होगी तो उसे भी ठीक कर दिया जाएगा।

25 खेलों में हिस्सा लेंगे 10 हजार खिलाड़ी

मनोहर लाल ने हरियाणा को खेलो इंडिया की मेजबानी देने के लिए खेल मंत्रालय का आभार जताया। कहा कि खेलो इंडिया का आयोजन 5 से 14 फरवरी को पंचकूला में होगा। इस महामुकाबले में 25 खेलों में 10 हजार के करीब खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। खेलो इंडिया का प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स पर होगा। इस बड़े आयोजन पर कुल 250 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जिसमें 100 करोड़ रुपये खेल आयोजन पर और 150 करोड़ रुपये खिलाड़ियों की व्यवस्था व अन्य कामों पर खर्च होंगे। इस खेल इंफ्रास्ट्रक्चर का फायदा पूरे रीजन को होगा। उन्होंने बताया कि दिव्यांग खिलाड़ियों के लिए एक कार्नर सभी स्टेडियम में बने यह सरकार ने फैसला लिया है। इसके अलावा फरीदाबाद में भी पैरा स्टेडियम बनाने की राज्य सरकार ने घोषणा की है।

चंडीगढ़ समेत दिल्ली में भी होंगे कुछ खेल आयोजित

मनोहर लाल ने बताया कि ज्यादातर खेलों का आयोजन पंचकूला में ही होगा। शूटिंग के मुकाबले डा. करनी सिंह स्टेडियम दिल्ली में होंगे। इसके अलावा साइकिलिंग के मुकाबले भी दिल्ली में आयोजित होंगे। आर्चरी और फुटबाल के कुछ मुकाबले पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ में आयोजित होंगे। जिमनास्टिक और स्विमिंग के मुकाबले अंबाला में आयोजित होंगे। हाकी के लीग मैच शाहाबाद में और फाइनल मुकाबला पंचकूला में आयोजित होगा।

अन्य राज्य कर रहे हरियाणा की स्पोर्ट्स नीति का अध्ययन

मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा की स्पोर्ट्स नीति आज देश दुनिया में चर्चा का विषय बनी हुई है। उन्होंने बताया कि हाल ही में गुजरात खेल विभाग के अधिकारियों ने 15 दिन हरियाणा में रहकर सरकार की तरफ से शुरू की गई अलग-अलग योजनाओं का जायजा लिया। इससे पहले बिहार की टीम प्रदेश की स्पोर्ट्स पॉलिसी का अध्ययन करने के लिए आई हुई थी। उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 के मुकाबले में आज हरियाणा का खेल बजट दौगुणा हो गया है, वर्ष 2021-22 के लिए हरियाणा सरकार की तरफ से 394 करोड़ रुपये का खेल बजट रखा गया है।

ऐतिहासिक होंगे खेलो इंडिया यूथ गेम्स, टीवी पर सीधा प्रसारण देख सकेगी दुनिया

खेलो इंडिया यूथ गेम्स का चौथा संस्करण ऐतिहासिक होगा। पंचकूला, अंबाला, शाहबाद, चंडीगढ़ और दिल्ली में प्रतियोगिता की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसी महीने के अंत तक तमाम इंतजाम पूरे कर लिए जाएंगे। पंचकूला में पांच फरवरी को प्रतियोगिता का आगाज होगा और अधिकतर खेलों के फाइनल मुकाबले आठ फरवरी से शुरू हो जाएंगे। प्रतियोगिता का सीधा प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स चैनल पर होगा।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शनिवार को खेल राज्य मंत्री संदीप सिंह के साथ ताऊ देवीलाल स्टेडियम में प्रतियोगिता की तैयारियों का निरीक्षण करते हुए कमियाें को सुधारने के निर्देश दिए। प्रतियोगिता में करीब 10 हजार खिलाड़ी भाग लेंगे। खिलाड़ियों के ठहरने, खाने-पीने और परिवहन की पूरी व्यवस्था सरकार करेगी। खेलो इंडिया गेम्स में 25 खेलों की प्रतियोगिताएं होंगी जिनमें पांच खेल पहली बार शामिल किए गए हैं। इनमें पंजाब का गतका, मणिपुर का थांग-ता, केरल का कलारीपयट्टू, महाराष्ट्र का मलखंभ और योगासन शामिल हैं। इन खेलों के लिए आवश्यक आधारभूत संरचना के विकास के लिए 250 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसमें से 150 करोड़ रुपये बुनियादी ढांचे और 100 करोड़ रुपये अन्य उपकरणों व सुविधाओं पर खर्च होंगे। कोरोना से बचाव के मानकों के साथ यह प्रतियोगिता होगी।

तैयारियों की समीक्षा के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा निरंतर खेलों में आगे बढ़ रहा है। हर वर्ष खेलों के बजट में वृद्धि की जा रही है। वर्ष 2014-15 में खेलों का बजट 151 करोड़ रुपये था जो आज 394 करोड़ रुपये हो गया है। ''''कैच दैम यंग'''' पालिसी के तहत बचपन से ही खेल प्रतिभाओं को तराशने के लिए 500 खेल नर्सरियों को फिर शुरू किया गया है। इसके अलावा 500 और खेल नर्सरियों को विकसित किया जाएगा। ग्रामीण स्तर पर खेल स्टेडियमों का नवीनीकरण किया जा रहा है। मैपिंग कराई जा रही है। जहां खेल स्टेडियमों की संख्या कम है, वहां आवश्यकतानुसार खेल स्टेडियम बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा की प्रगति को देखते हुए अन्य प्रांत भी यहां की खेल नीति का अध्ययन कर रहे हैं।

पांच शहरों में बनेंगे साइंटिफिक ट्रेनिंग एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर

खेल विभाग के प्रधान सचिव एके सिंह और निदेशक व खेलो इंडिया के ओएसडी पंकज नैन ने मुख्यमंत्री को बताया कि खिलाड़ियों को मानसिक और शारीरिक रूप से खेलों के लिए तैयार करने के लिए पंचकूला में साइंटिफिक ट्रेनिंग एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर बनाया जा रहा है। करनाल, हिसार, रोहतक और गुरुग्राम में भी इस तरह के केंद्र स्थापित किए जाएंगे। हर जिले के एक स्टेडियम में दिव्यांग खेल कार्नर बनाने की मुख्यमंत्री की घोषणा को जल्द ही अमलीजामा पहनाया जाएगा।