IAS के बेटे के अपहरण व मर्डर केस में घिरे पंजाब के पूर्व DGP सुमेध सिंह सैनी SIT के समक्ष पेश

मोहाली के मटौर थाने में एसआइटी के समक्ष पेश होने के लिए पहुंचे पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी। जागरण
Publish Date:Mon, 26 Oct 2020 11:47 AM (IST) Author: Kamlesh Bhatt

जेएनएन, मोहाली। पूर्व आइएएस अफसर के बेटे बलवंत सिंह मुल्तानी को अगवा करने व उसकी लाश को खुर्द बुर्द करने के मामले में नामजद पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सैनी सोमवार को जांच में शामिल होने के लिए एसआइटी के सामने पेश हुए। सैनी अपनी इनोवा कार सेे सुबह 11.10 पर अपनी सिक्योरटी के साथ मटौर थाने पहुंचे। सैनी मटौर थाने के बाहर अपनी गाड़ी से उतरे, जिन्हें एसएचओ राजीव कुमार खुद गेट तक लेने आए थे।  इसके बाद सैनी सीधेे एसएचओ के कमरे में गए, जहां एसआइटी में शामिल एसपी हरमनदीप हंस, डीएसपी विक्रम बराड़, डीएसपी जसविंदर टिवाना व एसएचओ राजीव कुमार ने उनसे पूछताछ शुरु की।

सैनी से जब मीडिया ने बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कहा वह जल्द इस संबंध में बात करेंगे। बता दें, इससे पहले एसआइटी सैनी से मुल्तानी मामले में 250 सवाल कर चुकी है, लेकिन सैनी के 5 जवाबों से एसआइटी संतुष्ट नहीं हुई थी, इसलिए उनको दोबारा पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया था। सोमवार को भी पब्लिक डीलिंग बंद कर दी गई थी। मटौर थाने का मुख्य गेट बंद कर दिया गया था। थाने में शिकायत देने आने वालों को शाम को बुलाया गया। 

बता दें, एसआइटी द्वारा जांच में शामिल होने के लिए सैनी को नोटिस भेजकर सबसे पहले 23 सितंबर को 11 बजे थाना मटौर में स्पेशल जांच टीम के सामने बुलाया गया था, पर वह पेश नहीं हुए थे। उन्होंने अपने वकील के माध्यम से 22 सितंबर को जांच टीम को एक मैसेज भेजकर सूचना दी थी कि 23 सितंबर को सेहत ठीक न होने के कारण वह थाने में पेश नहीं हो सकते, लेकिन पूर्व डीजीपी सुमेध सैनी 25 सितंबर किसान रैली वाले दिन जब जिले की सारी पुलिस व्यस्त थी अचानक एसआइटी (सिट) के समक्ष पेश होने के लिए एसएसपी दफ्तर पहुंच गए थे, जहां वह एसआइटी के इंचार्ज हरमन सिंह हंस के आगे पेश हुए।

इस दौारन एसपी हंस ने उन्हें यह कहकर वापस भेज दिया गया था कि कि जब एसआइटी उनको (सैनी) या उनके वकील को नोटिस भेजेगी, वह उस समय जांच में शामिल होने के लिए आएं। उन्हें दोबारा 26 सितंबर के लिए नोटिस भेजा गया था। पुलिस द्वारा सुमेध सैनी के चंडीगढ़ सेक्टर -20 स्थित घर के बाहर उक्त नोटिस चिपका दिया गया था। सैनी 28 सितंबर को 11 बजे थाना मटौर में जांच टीम के सामने पेश हुए थे, लेकिन उनके जवाबों से संतुष्ट न होकर सैनी को 30 सितंबर को दोबारा नोटिस भेजकर जांच में शामिल होने के लिए बुलाया गया था, लेकिन उस समय भी उन्होंने अपने वकील के माध्यम से मैसेज भेजा था कि वह इस समय दिल्ली में हैं और डॉक्टरों ने उन्हें ट्रैवल करने से मना किया है। अब सैनी आज फिर एसआइटी के समक्ष पेश हुए हैं। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.