ओपन एयर सिथेंटिक हैंडबॉल कोर्ट पर खेलेंगे डीएवी कॉलेज-10 के खिलाड़ी

विकास शर्मा, चंडीगढ़ : डीएवी कॉलेज -10 में बुधवार को देश के पहले सिथेंटिक हैंडबाल कोर्ट का उद्घाटन हुआ। यह देश का पहला ओपन एयर सिथेंटिक हैंडबॉल कोर्ट है। राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) स्कीम के तहत बनाए गए इस हैंडबॉल कोर्ट का निर्माण किया गया है। पिछले साल नंवबर महीने में शुरू हुए इस सिथेंटिक हैंडबॉल कोर्ट का निर्माण कार्य फरवरी में पूरा होना था, लेकिन तकनीकी कारणों की वजह से इसका निर्माण कार्य लेट होता रहा था। दूसरी तरफ कॉलेज के हैंडबाल खिलाड़ी इस कोर्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।

अंतरराष्ट्रीय स्तर की तमाम प्रतियोगिताएं होती हैं सिथेंटिक हैंडबॉल कोर्ट में

डीएवी कॉलेज -10 में फिजिकल एजुकेशन के सहायक प्रोफेसर व एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के वाइस प्रेसीडेंट रविंद्र चौधरी ने बताया कि हैंडबॉल का सिथेंटिक कोर्ट इसलिए जरूरी था, क्योंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जितनी भी प्रतियोगिताएं होती हैं। वह इसी तरह के सिथेंटिक कोर्ट पर होती हैं। इसके अलावा यह ऑल वेदर कोर्ट है, इसमें आप किसी भी मौसम में खेल सकते हैं। इसमें चोट लगने का भी कम डर रहता है क्योंकि यह सीमेंटिड कोर्ट के मुकाबले लचीला होता है, जिसमें इसपर गिरने या दौड़ने से आपको चोट लगने का डर कम रहता है। इतना ही नहीं इसमें शानदार मार्किग होती है, जिससे आप फ्लड लाइट में भी आराम से खेल सकते हैं।

खिलाड़ी कर रहे थे बेसब्री से इंतजार

हैंडबॉल के खिलाड़ी अभिषेक चौहान ने बताया कि कॉलेज में सिथेंटिक हैंडबॉल का ट्रैक खुलने से खेल को बढ़ावा मिलेगा, ज्यादा से ज्यादा युवा खिलाड़ी इस खेल के प्रति आकर्षित होंगे। हम सभी इस सिथेंटिक ट्रेक का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। इसके अलावा जो खिलाड़ी इस खेल में अपना भविष्य देखते हैं, वह भी और मेहनत कर खुद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाने की कोशिश करेंगे।

जल्द हाईटेक होंगी अन्य खेल सुविधाएं

डीएवी में फिजिकल एजुकेशन एजुकेशन के सहायक प्रोफसर रविंद्र चौधरी ने बताया कि कॉलेज में जल्द अन्य खेलों के लिए अलग से कोर्ट और ट्रेक बनाए जा रहे हैं, ताकि कॉलेज परिसर में खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं मिल सकें। उन्होंने कहा कि खो -खो के खास तौर मिंट्टी का ट्रेक तैयार किया जाएगा। वालीबॉल का सिथेंटिक कोर्ट और दो बैडमिंटन को दो सिथेंटिक कोर्ट का भी जल्द निर्माण होगा। इन सबके लिए जमीन निश्चित कर दी गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.