सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया की राह में कोरोना रोड़ा

सेक्टर-22 में बनने वाले सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया के निर्माण के लिए अभी तक एक भी ईट नहीं लग पाई है।

JagranThu, 24 Jun 2021 11:26 PM (IST)
सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया की राह में कोरोना रोड़ा

राजेश मलकानियां, पंचकूला

सेक्टर-22 में बनने वाले सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया के निर्माण के लिए अभी तक एक भी ईट नहीं लग पाई है। हरियाणा स्टेट इंडस्ट्रीज इंफ्रास्ट्रक्चर कारपोरेशन ने दिसंबर 2019 को एसटीपीआइ नोएडा को जमीन सौंप दी थी। जिसका दो साल में निर्माण करना था, लेकिन कोरोना की पहली और दूसरी लहर में काम शुरू नहीं हो पाया। एसटीपीआइ के ज्वाइंट डायरेक्टर नीतिन अग्रवाल के मुताबिक एसटीपीआइ ने अभी प्री कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है, जिसके तहत अभी एक प्रोजेक्ट कंसल्टेंसी कंपनी से साइट सर्वे करवाकर मिट्टी की जांच करवाई जाएगी। आर्किटेक्ट की नियुक्त के बाद बिल्डिग प्लान तैयार होगा। कोरोना की संभावित तीसरी लहर प्रभावी ना हुई, तो दिसंबर तक निर्माण शुरू होने की संभावना है।

पंचकूला सेक्टर-22 आइटी पार्क में 14.91 करोड़ में एचएसआइआइडीसी से खरीदी 8049.71 वर्ग मीटर जमीन एक रुपये प्रतिवर्ष की दर से 99 वर्ष के लिए एसटीपीआइ नोएडा को देने का प्रस्ताव हरियाणा मंत्रिमंडल ने स्वीकृत कर दिया था। एसटीपीआइ आइटी ऑफिस स्पेस, हाई स्पीड डाटा कनेक्टिविटी, डाटा सेंटर तथा सॉफ्टवेयर और सेवाओं के निर्यात के लिए आवश्यक अन्य सुविधाएं सृजित करेगा। एसटीपीआइ कार्यालय परिसर, नेटवर्क ऑपरेशन सेंटर, फिनिशिग स्कूल, प्लग-एन-प्ले फेसिलिटी इनक्यूबेशन और रॉ इनक्यूबेशन स्पेस शामिल होगा। एसटीपीआइ-इनक्यूबेशन सेंटर स्टार्टअप के लिए एक केंद्रीकृत सुविधा होगी और यह सुनिश्चित करेगा कि उभरते स्टार्टअप के लिए परामर्श से लेकर वित्तपोषण तक प्रासंगिक पारिस्थितिकी तंत्र उपलब्ध हो। स्टार्टअप की आवश्यक सहायता सेवा के साथ आधुनिक बुनियादी ढांचे तक पहुंच होगी।

एसटीपीआइ देश से सॉफ्टवेयर निर्यात को बढ़ावा देने के उद्देश्य से संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के तहत एक स्वायत्त संस्था है। आइटी निर्यात गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए आइटी इकाइयों को एक छत के नीचे इनक्यूबेशन और डेटा संचार सुविधाएं उपलब्ध करवाता है। इसके खोले जाने से पंचकूला के लोगों को फायदा होगा, क्योंकि चंडीगढ़ और मोहाली में आइटी सेक्टर है और 15 सालों में पंचकूला को आइटी हब बनाने को लेकर नजरअंदाज किया जा रहा था।

रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन सेक्टर-16 के महासचिव सुभाष पपनेजा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बताया कि केंद्रीय संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 27 फरवरी 2016 को पंचकूला सेक्टर-5 के इंद्रधनुष आडिटोरियम में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (एसटीपीआइ) का एक सेंटर पंचकूला में खोलने की घोषणा की थी। अब तक इस पर काम शुरू नहीं हुआ है। इसलिये इसका काम जल्द शुरू करवाया जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.