चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव: Sood vs Chawla; भाजपा अध्यक्ष के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरेंगे कांग्रेस अध्यक्ष

कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि अगर अरुण सूद चुनाव लड़ेंगे तो कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला को उनके खिलाफ चुनाव लड़वाया जाए। वहीं चावला का कहना है कि अगर पार्टी उन्हें चुनाव लड़ने के लिए कहती है तो वह सूद के खिलाफ भी मैदान में उतरेंगे।

Ankesh ThakurSat, 27 Nov 2021 03:56 PM (IST)
भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद और कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला। फाइल फोटो

राजेश ढल्ल, चंडीगढ़। चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव को लेकर आज से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इस बार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच कांटे की टक्कर है। हालांकि अभी तक तीनों दलों ने उम्मीदवार घोषित नहीं किए हैं। अभी तक न कांग्रेस और न ही भापजा ने अपने पत्ते खोले हैं। ऐसे में सियासी समीकरण बनने लगे हैं।

कांग्रेस और भाजपा में इस समय सेक्टर-37 और 38 वार्ड में कोई मजबूत उम्मीदवार खड़ा करने को लेकर मंथन चल रहा है। कांग्रेस नेताओं को इस बात की खबर मिली है कि उक्त वार्ड से भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद खुद चुनाव लड़ सकते हैं। ऐसी स्थिति में कांग्रेस के सीनियर नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सुभाष चावला को सूद के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरने की प्लानिंग बना रहे हैं। 

इस वार्ड से अरुण सूद पिछले 10 साल से पार्षद हैं, लेकिन इस बार अध्यक्ष बनने के कारण वह चुनाव लड़ने से मना कर रहे हैं। इसके साथ ही इस वार्ड से उनकी पत्नी को भी पार्टी उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतार सकती है। सूद की पत्नी अंबिका सूद इस समय हरियाणा सरकार में एडिशनल एडवोकेट जनरल के पद पर तैनात है। कांग्रेसी नेताओं का कहना है कि अगर अरुण सूद चुनाव लड़ेंगे तो कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला को उनके खिलाफ चुनाव लड़वाया जाए। वहीं, चावला का कहना है कि अगर पार्टी उन्हें चुनाव लड़ने के लिए कहती है तो वह सूद के खिलाफ भी मैदान में उतर सकते हैं। हालांकि वह पार्टी को चुनाव लड़ने से पहले ही इन्कार कर चुके हैं, लेकिन अंतिम निर्णय पार्टी को करना है।

कांग्रेस दो दिसंबर को घोषित करेगी उम्मीदवार

आज शाम को कांग्रेस भवन में उम्मीदवारों को लेकर मंथन पर चुनाव कमेटी की बैठक बुलाई गई है। बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल भी शामिल होंगे। कांग्रेस से अभी तक 180 दावेदारों ने टिकट के लिए आवेदन किया है। जिन्हें आज शाम को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। कांग्रेस नेताओं का दावा है कि हर वार्ड से 33 संभावित उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। ऐसी सूरत में उम्मीदवार 2 दिसंबर को ही घोषित किए जाएंगे। हालांकि  आप, भाजपा और कांग्रेस तीनों दल एक-दूसरे के उम्मीदवारों को लेकर नजर बनाए हुए हैं। अगर भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद खुद चुनाव लड़ते हैं और उनके मुकाबले में कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चावला उतारा गया तो इस सीट पर हर किसी की नजर रहेगी।

आप में सीनियर नेताओं को उम्मीदवार बनाने पर चल रहा मंथन

सुभाष चावला साल 1996 से लेकर अब तक हर नगर निगम चुनाव लड़ चुके हैं, लेकिन इस बार अध्यक्ष बनने के कारण वह चुनाव लड़ने से इन्कार कर रहे हैं। सुभाष चावला के बेटे सुमित चावला को भी धनास सीट से संभावित उम्मीदवार बताया जा रहा है। वहीं आम आदमी पार्टी में भी सीनियर नेताओं को मैदान में उतरने पर मंथन चल रहा है। हालांकि अभी तक सह प्रभारी प्रदीप छाबड़ा और आप संयोजक प्रेम गर्ग चुनाव लड़ने से मना कर चुके हैं। उनका कहना है कि वह पार्टी के उम्मीदवारों के लिए प्रचार करके उन्हें जिताएंगे। प्रदीप छाबड़ा भी सेक्टर 22 से दो बार पार्षद और नगर निगम में मेयर पद पर रह चुके हैं।

हरमोहन धवन के बेटे विक्रम धवन को टिकट देने की प्लानिंग

आम आदमी पार्टी की ओर से 24 उम्मीदवार के नाम फाइनल कर लिए गए हैं लेकिन अभी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। उम्मीद है कि सोमवार तक इन उम्मीदवारों की घोषणा कर दी जाएगी। आम आदमी पार्टी पहली बार दिसंबर में होने वाले नगर निगम चुनाव लड़ रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री हरमोहन धवन के बेटे विक्रम धवन को भी मैदान में उतारने की आप नेताओं द्वारा रणनीति बनाई जा रही है। चंडीगढ़ भाजपा उम्मीदवारों को लेकर पूरी तरह से सूची को गुप्त रखा जा रहा है। यह भी जानकारी है कि इस बार कई भाजपा के मौजूदा पार्षदों की टिकट काटी जाएगी। भाजपा सत्ता विरोधी लहर को देखते हुए नए चेहरे मैदान में उतारने की रणनीति बना रही है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.