चंडीगढ़ कांग्रेस ने मेयर पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- ड्राइवर भर्ती के नाम पर लिए जा रहे लाखों रुपये

चंडीगढ़ कांग्रेस ने मेयर पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- ड्राइवर भर्ती के नाम पर लिए जा रहे लाखों रुपये।

चंडीगढ़ कांग्रेस पार्टी के पार्षदों ने नगर निगम के मेयर रविकांत शर्मा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इसको लेकर कांग्रेस पार्षदों ने प्रशासक वीपी सिंह बदनौर को पत्र लिखा है। कांग्रेस पार्षदों का आरोप है कि भाजपा मेयर और पार्षद नगर निगम को लूट रहे हैं।

Ankesh KumarSat, 10 Apr 2021 03:42 PM (IST)

चंडीगढ़, जेएनएन। चंडीगढ़ कांग्रेस पार्टी के पार्षदों ने नगर निगम के मेयर रविकांत शर्मा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इसको लेकर कांग्रेस पार्षदों ने प्रशासक वीपी सिंह बदनौर को पत्र लिखा है। कांग्रेस पार्षदों का आरोप है कि भाजपा मेयर और पार्षद नगर निगम को लूट रहे हैं। शहर में घर-घर से कूड़ा उठाने के लिए जो गाड़ियां खरीदी गई हैं उनके लिए ड्राइवर रखने के नाम पर एक ड्राइवर से नौकरी के लिए एक लाख रुपये लिए गए हैं। इन गाड़ियों के चालकों की भर्ती के लिए कोई नियम फॉलो नहीं किया जा रहा है। ड्राइवर भर्ती के लिए न कोई टेस्ट लिया जा रहा है।

कांग्रेस पार्षद दल के नेता देवेंद्र सिंह बबला का आरोप है कि पहले भी कूड़ा उठाने वाले गाड़ियों के लिए 112 चालक की भर्ती इसी तरह से हुई हैं, जिनका अभी तक कोई टेस्ट भी नहीं लिया गया है। अब दोबारा 150 चालकों की लिस्ट नगर निगम कमीश्नर को भेज दी गई है। इसी तरह दूसरे डिपार्टमेंट में कर्मचारियों की भर्ती भी किसी नियम के तहत नहीं हो रही है। उन्होंने पत्र में प्रशासक से भर्ती की जांच की मांग की है। 

देवेंद्र बबला ने आरोप लगाया है कि मेयर किसी एसई को नगर निगम में लाने के लिए नियमों की अनदेखी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह वह अधिकारी है जिसने नगर निगम में रहते हुए सेक्टर-17 में पार्किंग का निर्माण करवाया था, जो पार्किंग आज तक विवादो में घिरी हुई है। उन्होंने कहा कि हमारे पास चंडीगढ में काबिल कई अधिकारी हैं, लेकिन मेयर उन्हें नजरअंदाज कर विवादित आफिसर को ला रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि पार्षदों के वार्ड फंड का पैसा जो पिछले साल बच जाता था, वो अगले साल कैरी फारवर्ड हो जाता था वो भी फंड खत्म कर दिया गया। भाजपा पार्षद मिलकर शहर की जनता को लूट रहे हैं। कोई टैक्स नही छोड़ा जो चंडीगढ़ की जनता पर नहीं लगाया गया हो, चाहे प्रॉपटी टैक्स, काऊ सेस, पार्किंग टैक्स, पानी के रेट बढ़ाना और सीवरेज टैक्स जैसे कई कर जनता पर लाद दिए गए हैं। सफाई व्यवस्था में चंडीगढ़ 10 साल पहले नंबर एक रैंकिंग पर था आज वो 23वें नंबर पर पहुंच गया है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.