चंडीगढ़ व्यापार मंडल ने कैलाश चंद जैन को दिखाया बाहर का रास्ता, सदस्यता की रद, भाजपा प्रवक्ता हैं जैन

चंडीगढ़ व्यापार मंडल ने कैलाश चंद जैन की सदस्यता को रद कर दिया है। लंबे समय से चल रही खींचतान के बाद यह फैसला लिया गया है। कैलाश जैन ने अपना अलग संगठन बनाया था जिसको लेकर लंबे समय से विरोध जारी था।

Ankesh ThakurFri, 24 Sep 2021 02:19 PM (IST)
व्यापार मंडल ने कैलाश जैन को नोटिस भी जारी किया था।

जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। चंडीगढ़ व्यापार मंडल में कैलाश चंद जैन को लेकर लंबे समय से चली आ रही खींचतान के बाद जैन को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। वीरवार को हुई व्यापार मंडल की जनरल हाउस बैठक में कैलाश चंद जैन की सदस्यता रद करने का फैसला लिया गया है। बैठक में अलग-अलग बाजार से कुल 212 सदस्यों ने भाग लिया। बैठक में कैलाश चंद जैन को व्यापार मंडल से बाहर करने का निर्णय लिया। उनकी सदस्यता को खारिज कर दिया गया। जैन ने शहर में अपना नया व्यापारी संगठन का गठन किया है, जिसके विरोध में उन्हें व्यापार मंडल से बाहर करने के लिए काफी दिनों से गहमागहमी चल रही थी। जैन ने उद्योग व्यापार मंडल के नाम से अलग संगठन बनाया हुआ है।
 
बता दें कि मौजूदा समय में कैलाश जैन चंडीगढ़ भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता हैं। व्यापार मंडल ने जैन को यह भी कहा था कि वह अपना संगठन खत्म करके व्यापार मंडल के लिए ही काम करें, लेकिन वह नहीं माने। जनरल हाउस में पदाधिकारियों ने कहा कि जैन व्यापार मंडल से मिलते जुलते नाम से संगठन चला रहे हैं। इससे पहले जैन को नोटिस भी जारी किया जा चुका था। 
 
बैठक में व्यापार मंडल के अध्यक्ष चरणजीव सिंह ने कहा कि कोरोना काल में अपनी मांगों को पूरा करवाने में व्यापार मंडल ने अहम भूमिका निभाई है। व्यापारियों से जुड़ी समस्याओं को समय समय पर प्रशासन और नगर निगम के अधिकारियों के समक्ष उठाया जा रहा है। बैठक में महासचिव संजीव चड्ढा ने नगर निगम के साथ पार्किंगों को लेकर होने वाले एमओयू की प्रतियां भी बांटी।
 
बैठक में अनुशासनात्मक कमेटी के चेयरमैन अनिल वोहरा ने कैलाश चंद जैन की सदस्यता खारिज करने की सिफारिश करते हुए अपनी रिपोर्ट दी। उन्होंने बताया कि जो जैन का जवाब आया था वह संतोषजनक नहीं था।सलाहकार जगदीश कपूर ने बताया कि यह अच्छा होता कि कैलाश चंद जैन व्यापार मंडल के साथ ही काम करते।इससे व्यापारी एकता बढ़ती। कमलजीत पंछी ने कहा कि इस तरह की जो समांतर व्यापारी संगठन चल रहा है वह बदार्श करने लायक नहीं है। 

 

बैठक में कैलाश चंद जैन ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि किसी भी सदस्य को किसी भी अन्य एसोसिएशन को ज्वाइन करने की स्वतंत्रता है। उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी भी व्यापार मंडल के खिलाफ कुछ नहीं बोला और न ही खिलाफ काम किया है।
 
संजीव वर्मा ने किया जैन की सदस्यता रद करने का विरोध

 

वहीं, धनास मार्केट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन संजीव वर्मा ने चंडीगढ़ व्यापार मंडल द्वारा कैलाश चंद जैन की सदस्यता खत्म पर निंदा की है। संजीव वर्मा ने बताया कि चंडीगढ़ व्यापार मंडल का यह फैसला असंवैधानिक और गैरकानूनी है। किसी भी सदस्य को इस प्रकार से किसी दूसरी संस्था का मेंबर बनने पर नहीं निकाला जा सकता। चंडीगढ़ व्यापार मंडल द्वारा शहर की अनेक छोटी मार्केटों के आम दुकानदारों को सदस्य नहीं बनाया जाता। आज तक  छोटे छोटे दुकानदार जो अपना छोटा-मोटा व्यवसाय कर अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं उनको आ रही समस्याओं को लेकर कोई भी संस्था आगे नहीं आई। उन दुकानदारों के हितों के लिए ही उद्योग व्यापार मंडल का गठन किया गया है, ताकि चंडीगढ़ शहर के उन दुकानदार एवं व्यापारी भाइयों को भी अपनी आवाज बुलंद कर अपनी समस्याओं को प्लेटफार्म में रखने का मौका मिल सके।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.