पंजाब में बंपर भर्ती, शिक्षा विभाग में 10,880 व स्वास्थ्य विभाग में 3400 पदों को भरने की मंजूरी

पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गए हैं। सीएम ने आज शिक्षा व स्वास्थ्य विभाग में पदों को भरने की मंजूरी दे दी है। शिक्षा विभाग में 10880 पदों पर जबकि स्वास्थ्य विभाग में 3400 पद भरे जाएंगे।

Kamlesh BhattMon, 29 Nov 2021 08:24 PM (IST)
पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी की फाइल फोटो।

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पंजाब की चरणजीत सिंह चन्नी सरकार चुनाव में कूदने से पहले राज्य में बंपर भर्तियां करने की तैयारी में है। सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने शिक्षा विभाग में अलग-अलग काडरों से संबंधित खाली पड़े 10,880 पदों पर भर्ती को मंजूरी दे दी है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग में लगभग 3400 पदों को भरने का भी विज्ञापन जारी कर दी है। 

विभिन्न विभागों की उच्चस्तरीय मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शिक्षा को मुख्य क्षेत्र बताया। कहा कि इस शिक्षण कार्य सही हो इसकी तरफ विशेष ध्यान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने प्राइमरी स्कूलों में 2000 शारीरिक शिक्षा अध्यापक भर्ती करने के भी निर्देश दिए, जिससे अकादमिक पहलू पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ स्कूली विद्यार्थियों के स्वस्थ स्वास्थ्य को भी यकीनी बनाया जा सके।

हरेक गांव में कलस्टर बनाने की वकालत करते हुए सीएम ने कहा कि प्राइमरी, मिडल और हाई स्कूल वाला गांव ही एक शारीरिक शिक्षा ट्रेनर की सेवाएं ले सकेगा। मुख्यमंत्री ने स्कूल शिक्षा विभाग को इस प्रस्ताव पर गंभीरता से विचार करने के लिए कहा। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने अलग-अलग यूनियनों से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श किया। सीएम ने कहा कि विभाग इस संबंध पर विचार कर सकता है और उनकी मांग को जांचने के बाद वित्त विभाग के पास मामला उठाया जा सकता है।

रमसा के अधीन भर्ती किए गए लगभग 1000 हेडमास्टरों और अध्यापकों की लंबे समय से लटकती आ रही मांग को स्वीकार करते हुए मुख्यमंत्री ने वित्त विभाग को वेतन के लिए राज्य का बनता हिस्सा जारी करने के निर्देश दिए, जिस पर केंद्र सरकार (2016 में) द्वारा लगाई गई ऊपरी सीमा करके कट लगाया गया था। इससे सरकारी खजाने पर लगभग 3.2 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा।

एक और अहम फैसले में मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग में लगभग 3400 अलग-अलग पदों की भर्ती को मंजूरी दे दी है, जिससे स्वास्थ्य संभाल प्रणाली को और मजबूत किया जा सकेगा। सीएम ने आयुष्मान भारत स्कीम के अधीन आंगनबाड़ी/आशा वर्करों और अन्य स्वास्थ्य वर्करों को शामिल करने संबंधी प्रस्ताव को मंत्रिमंडल की मीटिंग में लाने के आदेश दिए। 

मुख्यमंत्री ने यह भी ऐलान किया कि वह जल्द ही कपूरथला और होशियारपुर में मेडिकल कालेजों का नींवपत्थर रखेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि संगरूर में 100 प्रतिशत सरकारी फंडिंग से नया मेडिकल कालेज बनाया जाएगा। यह नए मेडिकल कालेज राज्य में मेडिकल शिक्षा और अनुसंधान को बढ़ावा देने में मददगार साबित होंगे। बैठक में उपमुख्यमंत्री ओपी. सोनी, वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, मेडिकल शिक्षा मंत्री डा. राजकुमार वेरका, शिक्षा मंत्री परगट सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव हुसन लाल, प्रमुख सचिव वित्त केएपी सिन्हा, सचिव सामाजिक सुरक्षा, महिला एवं बाल विकास राजी पी श्रीवास्तव और प्रमुख सचिव मेडिकल शिक्षा और अनुसंधान आलोक शेखर भी मौजूद थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.