अरविंद केजरीवाल ने दोपहर में किया पंजाब में 300 यूनिट मुफ्त बिजली का एलान, शाम को पलटे

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अ‍रविंद केजरीवाल ने अपने चंडीगढ़ दौरे के दौरान बिजली पर बड़ी घोषणाएं कीं। उन्‍होंने दोपहर में प्रेस कान्‍फ्रेंस में 300 यूनिट तक बिजली देने का ऐलान किया लेकिन शाम में कुछ हद तक वह पलट गए।

Sunil Kumar JhaPublish:Tue, 29 Jun 2021 11:11 PM (IST) Updated:Wed, 30 Jun 2021 03:04 PM (IST)
अरविंद केजरीवाल ने दोपहर में किया पंजाब में 300 यूनिट मुफ्त बिजली का एलान, शाम को पलटे
अरविंद केजरीवाल ने दोपहर में किया पंजाब में 300 यूनिट मुफ्त बिजली का एलान, शाम को पलटे

चंडीगढ, राज्‍य ब्‍यूरो। Arvind Kejriwal FREE Electricity Schema in Punjab : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पंजाब के सभी उपभोक्ताओं को आम आदमी पार्टी की सरकार आने पर 300 यूनिट तक निशुल्क बिजली देने के ऐलान पर कुछ घंटे भी टिक नहीं पाए। उनके इस ऐलान पर विपक्षी पार्टियों की ओर से बोले हल्ले के बाद उन्होंने शाम को स्पष्ट किया कि एससी, बीसी और बीपीएल परिवारों को 300 यूनिट बिजली निशुल्क दी जाएगी। उसके ऊपर अतिरिक्त यूनिट का ही बिल लिया जाएगा लेकिन सामान्य वर्ग के लिए यह सुविधा नहीं होगी। उन्हें 300 यूनिट तक निशुल्क बिजली मिलेगी लेकिन अगर उनका बिल 300 यूनिट से ऊपर जाता है तो उन्हें पिछले तीन सौ यूनिटों का भी बिल देना पड़ेगा।

सामान्य वर्ग को 300 यूनिट तक मिलेगी निशुल्क बिजली, इससे ऊपर बिल आया तो देना पड़ेगा सारा बिल

इससे पहले दोपहर में हुई प्रेस कान्फ्रेंस में उन्होंने दो बार अलग-अलग पत्रकारों द्वारा पूछे सवाल के जवाब में स्पष्ट किया था कि पहले तीन सौ यूनिट फ्री होंगे। तीन सौ यूनिट के ऊपर एक भी यूनिट खर्च हुआ तो पूरा बिल वसूला जाएगा , जैसा कि दिल्ली में किया जा रहा है।

शिरोमणि अकाली दल के नेताओं ने निशाना साधा

केजरीवाल के इस ऐलान के बाद शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया, डॉ दलजीत सिंह चीमा , भाजपा के प्रधान अश्विनी शर्मा ने जब यह कहा कि पंजाब में पहले से ही एससी, बीसी और बीपीएल परिवारों को 200 यूनिट फ्री है। उसके ऊपर आने पर अतिरिक्त यूनिट का ही खर्च देना पड़ता है।

विपक्षी नेताओं के इस ताबड़तोड़ हमले के बाद चली खबरों को देखते हुए केजरीवाल ने शाम को यह स्पष्टीकरण दिया। आज चंडीगढ़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने पिछले 1 साल से राज्य में महंगी बिजली को लेकर आंदोलन चलाया हुआ है। हमें ये शिकायतें मिली हैं कि लोगों के 50 हजार से लेकर एक लाख रुपये तक के बिल आए हैं।

एससी,बीसी, बीपीएल वर्ग को मिलेगी 300 यूनिट निशुल्क , उससे ऊपर आने वाले बिल का लिया जाएगा पैसा

उन्होंने कहा कि सरकार बनने पर ये सभी बिल को उन्हें माफ किया जाएगा और सभी के कनेक्शन बहाल कर दिए जाएंगे। केजरीवाल ने कहा कि सरकार बनने पर 24 घंटे बिजली मुहैया करवाई जाएगी। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि ऐसा करने में तीन साल का समय लग सकता है।

जब उनसे पूछा गया कि सभी पॉलिटिकल पार्टियां मुफ्तखोरी को बढ़ावा दे रही और आप भी उसे ही बढ़ावा दे रहे हैं तो उन्होंने कहा कि दिल्ली का उदाहरण सबके सामने है। यही सवाल हमसे 2013 में दिल्ली में हमारी सरकार बनने पर किया गया था लेकिन हमने पांच साल में साबित कर दिया कि भ्रष्टाचार को बंद करके लोगों को राहत दी जा सकती है।

उन्‍होंने कहा कि बिजली कंपिनयों और सत्तारूढ़ पार्टियों के बीच सांठगांठ को खत्म करना जरूरी है। दिल्ली में भी यही था और पंजाब में भी ऐसा ही है। जब उनसे पूछा गया कि पंजाब में प्राइवेट थर्मल प्लांटों के साथ सरकार ने 25 साल का एग्रीमेंट किया है । कैप्टन ने कहा है कि वह समझौते रद्द नहीं किए जा सकते। इस पर केजरीवाल ने कहा कि वह इसकी तैयारी करके आए हैं और हवा में बात नहीं कर रहे हैं।

केजरीवाल ने किसान आंदोलन का समर्थन किया और ऐलान किया कि सरकार बनने के बाद किसानों को दी जा रही निशुल्क बिजली जारी रहेगी। पंजाब में साढ़े लाख करोड़ के कर्ज की बावजूद सरकार ऐसा कैसे करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में पैसे की कमी नहीं है नीयत की कमी है। हम माफियाओं का राज खत्म करके पंजाब की आर्थिकता को भी ठीक करेंगे। उन्होंने बेअदबी मसले पर भी अपने विचार रखे और कहा कि मौजूदा सरकार और अकाली दल इस मामले में मिले हुए हैं। आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर दूसरों को सजा दिलाई जाएगी।