Pashu Kisan Credit Card Yojana: डेयरी उद्योग में करियर बनाना आसान, चंडीगढ़ में भी शुरू हुई पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम

किसान गाय और भैंस जैसे पशु खरीदने के लिए क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं।
Publish Date:Tue, 22 Sep 2020 02:16 PM (IST) Author: Kamlesh Bhatt

जेएनएन, चंडीगढ़। ऐसा युवा जो बेरोजगार हैं और पशु पालन से जुड़े कार्य में रूचि रखते हैं, उनके लिए अच्छी खबर है। वह डेयरी उद्योग में अपना करियर बना सकते हैं। इसके लिए उन्हें इन्वेस्टमेंट की परवाह करने की भी जरूरत नहीं है। काम की शुरुआत सरकार की नई स्कीम से कर सकते हैं। इसमें उन्हें अपनी तरफ से ज्यादा पैसा लगाने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा और न ही किसी के सामने हाथ फैलाना पड़ेगा।

केंद्र सरकार की पशु किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम चंडीगढ़ में शुरू हो चुकी है, जिसमें गाय और भैंस जैसे पशु खरीदने के लिए क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं। वह भी बिना किसी गारंटी के यह कार्ड मिल जाएगा। इस कार्ड से गाय के लिए 44 हजार और भैस के लिए 61 हजार रुपये का लोन लिया जा सकता है। वह भी केवल चार प्रतिशत के ब्याज पर मिलेगा। इस कार्ड से कोई भी पशु पालक 1.60 लाख रुपये का लोन ले सकता है वह भी बिना किसी सिक्योरिटी दिए।

किस्त में मिलेंगे यह पैसे

एनिमल हस्बेंड्री डायरेक्टर तेजदीप सिंह सैनी, ज्वाइंट डायरेक्टर कंवरजीत सिंह और लीड बैंक मैनेजर अनिल यादव ने पशु पालकों को पीकेसीसी स्कीम के बारे में जागरूक किया। गाय और भैंस के लिए प्रति माह किस्त के हिसाब से लोन मिलेगा। गाय के लिए छह बराबर किस्त और भैंस के लिए सात किस्त में पैसा मिलेगा, जो 7336 से 8781 रुपये प्रतिमाह होगा। तेजदीप सिंह सैनी ने कहा कि डिपार्टमेंट की यह पहल 2022 तक किसानों की आय दोगुणा करने का लक्षय पूरा कराएगी। नगदी मिलने से किसान बेहतर साइंटिफिक एनिमल हस्बेंड्री प्रेक्टिस को अपनाने में सहयोग करेगी प्रोडक्टिविटी को बढ़ाने में मदद करेगी।

25 किसान को मिले कार्ड, 527 का चयन

चंडीगढ़ एनिमल हस्बेंड्री डिपार्टमेंट ने स्कीम को लागू करते हुए 527 पशु पालकों का चयन किया था। जिनके आवेदन बैंकों को भेजे गए थे। इनमें से 208 केस अभी तक सेंक्शन हो चुके हैं। सोमवार को इन्हीं में से 25 पशु पालकों को खुड्डा लाहौरा और मलोया में एनिमल हस्बेंड्री सेक्रेटरी संजय कुमार झा ने पीकेसीसी वितरित किए। डिपार्टमेंट के अधिकारियों और स्टाफ ने पशु पालकों तक पहुंचकर उन्हें इस स्कीम के फायदे बताए। सभी 1380 पशु पालकों में से 527 को कवर किय गया। बाकी को भी प्रोत्साहित किया गया।

संजय झा ने कहा कि इस महामारी के दौर में यह पशु पालक किसानों को बड़ी राहत देगा। पंजाब नेशनल बैंक चंडीगढ़ का लीडिंग बैंक है। 20 और बैंक भी इस स्कीम में शामिल हैं। झा ने कहा कि पशु पालक भारत सरकार की पीकेसीसी और नेशनल एनीमल डिसीज कंट्रोल प्रोग्राम का निशुल्क लाभ उठा सकते हैं। इसमें डिपार्टमेंट पशु पालकों के पास खुद पहुंचकर वैक्सीनेशन करता है। पशुओं की टैगिंग कर उसका डाटा इंफोर्मेशन नेटवर्क फॉर एनिमल प्रोडक्टिविटी एंड हेल्थ के तहत मेंटेन किया जा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.