मोहाली में मेयर बनते ही आरोपों से घिरे अमरजीत, विपक्ष बोला- कांग्रेस ने हत्यारोपी को सौंपी कमान

मोहाली नगर निगम कार्यालय में मेयर बनने के बाद पार्टी नेताओं के साथ अमरजीत सिंह जीती सिद्धू।

मोहाली नगर निगम के मेयर चुने जाने के तुरंत बाद अमरजीत सिंह जीती सिद्धू आरोपों से घिर गए हैं। विपक्ष कांग्रेस पार्टी और मेयर पर हमलावर है। विपक्षी दल के पार्षदों ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस ने हत्या के आरोपित को शहर की कमान सौंपी है।

Ankesh KumarMon, 12 Apr 2021 03:16 PM (IST)

मोहाली, [रोहित कुमार]। मोहाली नगर निगम को सोमवार को मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर मिल चुका है। लेकिन इसके बाद अब आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला भी शुरू हो गया है। विपक्षी दल के नेता कांग्रेस पार्टी के मेयर पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं।

विपक्षी दल के पार्षदों ने अमरजीत सिंह जीती सिद्धू के मोहाली नगर निगम मेयर चुने जाने पर जमकर जुबानी हमला बोला। उन्होंने कहा कि मोहाली शहर के फर्स्ट पर्सन ऐसे व्यक्ति को बना दिया गया है जिस पर हत्या का मामला है। जोकि हत्या आरोपित है।

विपक्ष दल के पार्षद सुखदेव सिंह पटवारी, पार्षद मंजीत सिंह सेठी और महिला पार्षदों ने कहा कि 27 महिलाएं नगर निगम चुनाव जीत कर हाउस में पहुंची। लेकिन किसी एक को भी कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई। इससे साफ है कि जो पचास फीसद आरक्षण की बात सरकार कर रही है वे सिर्फ सरकारी एंजेडा है। किसी एक भी महिला को कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई। पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर ऋषभ जैन की पत्नी चौथी बार चुनाव जीत कर सदन में पहुंची है। महिला पार्षदों ने सवाल उठाया कि किसी महिला को जिम्मेदारी क्यों नहीं  दी गई । क्या स्वास्थ्य मंत्री व उनके परिवार के सदस्यों को लगता है कि महिलाएं हाउस चलाने में सक्षम नहीं है।

पार्षद मंजीत सिंह सेठी, सुखदेव सिंह पटवारी ने कहा कि सेहत मंत्री को हाउस में ऐसे लोग चाहिए थे जो उनकी हां में हां मिलाए। इसलिए पद भी उन्हीं को दिए गए हैं। ये डेमोक्रेटिक सिस्टम का हनन है। इसको लेकर अदालत भी जाना पड़ा तो जाएंदे। परिवारवाद शहर में कैसे हावी हो रहा है, ये अब शहर के लोग देखें।

पंजाब सरकार ने इस बार 50 फीसद सीटें महिलाओं के लिए रिजर्व की थी। महिलाओं के अध्यक्ष पद के लिए सिर्फ दो ही नगर परिषदों की सीटों को रिजर्व किया गया है। जीरकपुर नगर परिषद में कांग्रेस अध्यक्ष दीपइंद्र सिंह ढिल्लों के बेटे उदयबीर सिंह ढिल्लों को प्रधान बनाया गया है। वहीं, मोहाली शहर में पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री के भाई मेयर घोषित किया गया है। नगर काउंसिलों में से नयागांव और खरड़ के अध्यक्ष पद महिला के लिए रिजर्व हैं।

जिले की कुराली, जीरकपुर, बनूड़, लालड़ू और डेराबस्सी नगर कांउसिल को रिजर्वेशन से बाहर रखा गया है। जीरकपुर और डेराबस्सी, बनूड़ में प्रधानों का चयन हो चुका है। मोहाली में 50 वार्डों में से 37 पर कांग्रेस के उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है। पूरे जिले में यह दो नगर काउंसिल ही ऐसी हैं जहां पर कांग्रेस का स्पष्ट बहुमत नहीं है। खरड़ के 27 वार्डों में से कांग्रेस के 10, अकाली दल के आठ, आप का एक और आजाद लड़ने वाले आठ उम्मीदवार जीते थे। इसी तरह से नयागांव के 21 वार्डों में से कांग्रेस के छह, अकाली दल के 10, भाजपा के तीन और आजाद लडे दो उम्मीदवारों को जीत हासिल हुई थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.