गपशप... मार्केट एसोसिएशन के चुनाव में AAP ने लूटी वाहवाही, पढ़ें चंडीगढ़ की राजनीति की रोचक खबरें

चंडीगढ़ में निगम चुनाव के लिए सरगर्मियां बढ़ गई हैं। सभी राजनितिक दल अपनी अपनी जीत के दावे करने लगे हैं। हालांकि चुनाव अभी दिसंबर में होने हैं लेकिन पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता अभी से सक्रिय हो गए हैं।

Ankesh ThakurMon, 13 Sep 2021 12:46 PM (IST)
नागपाल शास्त्री मार्केट एसोसिएशन के नए अध्यक्ष बने हैं।

राजेश ढल्ल, चंडीगढ़। सेक्टर-22 की शास्त्री मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष पद का चुनाव हुआ, जिसमें जसविंदर सिंह नागपाल मात्र तीन वोटों से जीते। इस जीत का क्रेडिट लेने और वाहवाही लूटने के लिए आम आदमी पार्टी भी कूद गई। क्योंकि नागपाल आप के समर्थक हैं। आप नेताओं ने तो मार्केट अध्यक्ष पद की जीत पर यह तक कह दिया कि इस जीत से पंजाब और चंडीगढ़ के कार्यकर्ता और नेता प्रेरित होंगे। नवनियुक्त अध्यक्ष के साथ आप नेताओं ने पार्टी की टोपियां पहनकर तस्वीरें खिचाई। आप ने यह भी कहा कि हारने वाले उम्मीदवार भाजपा के समर्थक हैं। ऐसे में आप नेताओं ने इस चुनाव को राजनीतिक रंग देते हुए खूब वाहवाही लूटी।

कई नेताओं ने इसे प्रदीप छाबड़ा के आप में शामिल होने का ही असर बताया। छाबड़ा समर्थकों का कहना है कि अभी आगे आगे देखो क्या क्या होगा। प्रदीप छाबड़ा सेक्टर-22 में रहते हैं और 15 साल तक पार्षद रह चुके हैं। जबकि इस समय इस वार्ड से मेयर रविकांत शर्मा पार्षद हैं। जबकि गपशप करते हुए कई व्यापारी कह रहे हैं कि यह चुनाव गैर राजनीतिक था। चुनाव के दौरान तो किसी ने आप और भाजपा का नाम तक नहीं लिया।

अधिकारी निकले तो हो समाधान

 

सेक्टर-9 स्थित पुलिस मुख्यालय पास इन दिनों पीआरओ रूम के पास बना पब्लिक टायलेट अपनी बदहाली के लिए चर्चा में हैं। कोई भी निकलता है तो वह नाक पर रूमाल रख लेता है। असल में जब इस पब्लिक टायलेट की हालत इतनी खस्ता है कि यहां से दुर्गंध का सामना हर किसी को करना पड़ता है। जबकि पुलिस की ओर से स्वच्छता का भी पाठ पढ़ाया जाता है। टायलेट के आसपास कमरे में बैठे जूनियर कर्मचारी काफी परेशान है। उन्हें मजबूरी में पूरा दिन दुर्गंध का सामना करना पड़ता है। लेकिन कोई भी उनकी सुध नहीं ले रहा है। वह खुली हवा के लिए कई बार दूसरों के कमरों और बाहर आते जाते रहते हैं। असल में यहां से 50 गज की दूरी पर एसएसपी का भी ऑफिस है। लेकिन एसएसपी और डीजीपी साहब के लिए एंट्री बैक साइड से हैं ऐसे में उन्हें दुर्गंध का अहसास नहीं हो पाता। ऐसे में कई कर्मचारी कहते हैं कि अगर आला अधिकारी भी पुलिस मुख्यालय के प्रवेश द्वार से ही निकले तो शायद कोई जागे और उन्हें भी इस दुर्गंध से निजात मिल सके।

पांच सीटे कम हो गई

इस समय हर राजनीतिक दल के नेता आने वाले नगर निगम चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें आने के सपने देख रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष अरुण सूद जहां पर 35 में से 35 सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस नेता भी अपनी जीत के दावे कर रहे हैं। हाल ही में एक डिबेट में कांग्रेस अध्यक्ष ने 30 सीटों को जीतने का दावा किया। इस डिबेट में चावला ने भाजपा अध्यक्ष को भी शहर के किसी वार्ड से उनके मुकाबले में खड़े होने का भी चैलेंज दे दिया। जबकि उसके ही एक सप्ताह बाद एक अन्य डिबेट में पार्टी के मुख्य प्रवक्ता ने 25 सीटें जीतने का दावा किया है। जिस पर कई नेता चुटकी भी ले रहे हैं कि क्या एक सप्ताह में ही पांच सीटें कम हो गई। पार्टी के नेता तो तय कर ले कि कितनी सीटों का दावा करना है।जबकि कई तो एक सीट फालतू 36 के आने का भी दावा कर देते हैं उनका कहना है कि कहने से क्या जाता है। इस समय कांग्रेस और भाजपा के कार्यालय में कई नेता ऐसे भी है जो फिल्ड में कम दिखते हैं लेकिन सीटों की संख्या पर खूब चर्चा करते हैं।

सांसद मुबंई, मेमोरेंडम दफ्तर में

इस समय सांसद किरण खेर अपनी बीमारी के कारण लंबे समय से मुबंई में हैं, लेकिन शहर में होने वाले कार्यों को लेकर अभी भी उनके समर्थक सांसद को ही क्रेडिट देने में पीछे नहीं हटते हैं। नगर निगम चुनाव पास है ऐसे में भाजपा को भी पता है कि कांग्रेस सांसद के लंबे समय से शहर में न होने के मामले को लेकर मुद्दा बनाएंगे।ऐसे में सांसद के न होने के बावजूद उनके समर्थक कह रहे हैं कि वह प्रशासन के अधिकारियों के निरंतर संपर्क में हैं। ऐसे में समस्याओं पर ज्ञापन लेने के लिए संगठनों को सांसद कार्यालय में भी बुलाया जा रहा है। हाल ही में मकान बचाओ समिति के एक प्रतिनिधिमंडल को एमपी के दफ्तर में बुलाया गया और यहां पर भाजपा युवा मोर्चा के उप प्रधान वीरेंद्र राणा को सांसद के नाम पर ज्ञापन साैंपा गया। इसमें दावा किया गया कि वीरेंद्र राणा ने सांसद किरण खेर से फोन पर बात की जिस पर सांसद ने यह आश्वासन किया कि वह किसी भी हाउसिंग बोर्ड निवासी का मकान टूटने नहीं देंगी। जबकि गपशप करते हुए कांग्रेस और आप नेता यह सवाल उठा रहे हैं कि हाउसिंग बोर्ड की ओर से अब भी वायलेशन के कारण लोगों के मकान तोड़े जा रहे हैं। विपक्ष का कहना है कि अब लोगों को आश्वासन नहीं समाधान चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.