महिला कर्जा मुक्ति मंच ने डीसी दफ्तर के सामने किया प्रदर्शन

महिला कर्जा मुक्ति मंच ने डीसी दफ्तर के सामने किया प्रदर्शन

महिला कर्जा मुक्ति मंच की तरफ से बुधवार को डीसी दफ्तर के सामने रोष प्रदर्शन किया गया।

Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 04:58 PM (IST) Author: Jagran

जासं, बठिडा : महिलाओं के कर्ज माफ करने की मांग को लेकर औरत कर्जा मुक्ति मंच की तरफ से बुधवार को डीसी दफ्तर के सामने रोष प्रदर्शन किया गया। इस दौरान प्राइवेट कंपनियों, प्राइवेट बैंकों तथा राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महिला कर्जा मुक्ति मंच के संघर्ष में शामिल किरती किसान यूनियन के नेता अमरजीत सिंह हनी ने बताया कि महिलाओं के कर्जे के मसले को लेकर पिछले लंबे समय से संगठन की ओर से संघर्ष किया जा रहा है। पंजाब सरकार बड़े घरानों के कर्जे तो माफ कर रही है लेकिन महिलाओं के कर्ज के प्रति चुप्पी धारी हुई है। पंजाब सरकार तथा जिला प्रशासन की चुप्पी को तोड़ने के लिए ही बीती 6 जुलाई को भी डीसी दफ्तर के समक्ष धरना दिया गया था। लेकिन तब से लेकर आज तक इन महिलाओं की इस जायज मांग की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया। जबकि प्राइवेट कंपनियां तथा प्राइवेट बैंक लगातार महिलाओं पर कर्ज अदा करने का दबाव डाल रहे हैं। यहां तक कि जो महिलाएं कर्ज की किश्तें अदा नहीं कर पा रही हैं, उनके घर का सामान उठाने की प्राइवेट कंपनियों की ओर से धमकियां दी जा रही हैं। इसे रोकने के लिए ही मजबूरी में फिर से महिलाओं को डीसी दफ्तर के आगे पहुंचकर प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ा है । उन्होंने सरकार से मांग की कि महिलाओं के कर्जे पर लीक मारी जाए। अगर जिला प्रशासन व सरकार ने उनकी इस मांग की तरफ ध्यान नहीं दिया तो और भी तीखा संघर्ष शुरू किया जाएगा।

इस मौके पर क्रांतिकारी पेंडू मजदूर यूनियन के प्रदेश कमेटी मेंबर सुखपाल सिंह खियालीवाला, किरती किसान यूनियन के प्रधान सुखविदर सिंह सराभा, देहाती मजदूर सभा के महासचिव प्रकाश सिंह नंदगढ़, जम्हूरी किसान सभा के महासचिव दर्शन सिंह फूलो मिट्ठी, महिला कर्जा मुक्ति संघर्ष कमेटी की रानी कौर संधू, शिदर कौर, सरोज रानी, अमरजीत कौर, दर्शन कौर आदि मौजूद थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.