सेहत मुलाजिमों ने वैक्सीन लगवाने से किया मना

सेहत मुलाजिमों ने वैक्सीन लगवाने से किया मना

कोरोना वैक्सीन के पंजाब में आते ही सेहत विभाग के मुलाजिमों ने इसे लगवाने से मना कर दिया है।

Publish Date:Thu, 14 Jan 2021 10:53 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, बठिडा: कोरोना वैक्सीन के पंजाब में आते ही सेहत विभाग के मुलाजिमों ने इसे लगवाने से मना कर दिया है। पहले चरण में यह वैक्सीन सेहत विभाग के कर्मियों को लगाने की योजना है। मल्टीपर्पज हेल्थ इम्प्लाइज यूनियन ने घोषणा की है कि सेहत विभाग के मुलाजिमों पर ट्रायल किया जा रहा है। इसलिए वे कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाएंगे।

यूनियन के राज्य महासचिव गगनदीप सिंह ने बताया कि जब कोरोना के डर के कारण कोई भी घर से बाहर नहीं निकल रहा था तो उस समय सेहत मुलाजिमों ने अपनी ड्यूटी निभाई। जिन्हें सरकार ने कोरोना योद्धाओं का नाम भी दिया। मगर जब अपने हक मांगने के लिए संघर्ष किया तो उन पर पर्चे दर्ज किए गए। कोरोना वैक्सीन लगाने की शुरुआत पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह व सेहत मंत्री बलवीर सिंह से होनी चाहिए। इसके बाद पंजाब की पूरी कैबिनेट, राज्य के सिविल सर्जन, एसएमओ, टीकाकरण अफसर, एसएसपी व डीसी को लगाई जानी चाहिए। सेहत मुलाजिमों को वैक्सीन सिर्फ टेस्ट के रूप में लगाई जा रही है, जिसको किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जब सेहत कर्मियों से काम लेना था तो उनको कोराना वारियर्ज कहा गया, लेकिन जब कोरोना निकल गया तो उनकी किसी ने बात नहीं पूछी। पहले तो उन्हें सलामी भी दी गई, लेकिन बाद में उनकी मांगों की ओर भी ध्यान ही नहीं दिया गया।

दूसरी तरफ भारतीय किसान यूनियन एकता उग्राहां के महासचिव हरजिदर सिंह ने बताया कि सरकार कोरोना वायरस के नाम पर लोगों को डरा रही है। यहां तक कि दिल्ली में किसान आंदोलन के दौरान कोरोना किसी के नजदीक भी नहीं आया। यह सारा कुछ संघर्ष को फेल करने के लिए किया जा रहा है। वहीं गांवों में वैक्सीन के लिए आने वाली टीमों का विरोध किया जाएगा। इसके अलावा अपील की कि अगर सरकार वैक्सीन बनाना चाहती है तो कैंसर जैसी बीमारियों की बनाए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.