टोल प्लाजा मुलाजिमों का प्रदर्शन, नौकरी बहाल करने की मांग

टोल प्लाजा मुलाजिमों का प्रदर्शन, नौकरी बहाल करने की मांग

लहरा बेगा टोल प्लाजा कर्मचारी यूनियन ने पिछले छह दिनों से टोल प्लाजा दफ्तर के आगे धरना लगाया हुआ है। दो दिनों से भूख हड़ताल जारी है। मामला मुलाजिमों को नौकरी से हटाए जाने और दिसंबर महीने का वेतन न दिए जाने का है।

Publish Date:Sun, 24 Jan 2021 10:22 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सूत्र, लहरा मोहब्बत : लहरा बेगा टोल प्लाजा कर्मचारी यूनियन ने पिछले छह दिनों से टोल प्लाजा दफ्तर के आगे धरना लगाया हुआ है। दो दिनों से भूख हड़ताल जारी है। मामला मुलाजिमों को नौकरी से हटाए जाने और दिसंबर महीने का वेतन न दिए जाने का है।

संघर्ष कमेटी के नेता सर्बजीत सिंह, राजदीप सिंह, जगसीर सिंह, जसजीत सिंह, दिलजीत सिंह, शमशेर सिंह, किरनपाल कौर, हरदीप कौर, मनजीत कौर ने कहा कि कंपनी के अधिकारियों की तरफ से उनको तंग परेशान किया जा रहा है। इस दौरान मनजीत कौर, हरजीत कौर, दमनदीप सिंह, कुलदीप सिंह, दीपक सिंह, नवजोत सिंह, सुखदीप सिंह, खुशहाल सिंह, अमृत सिंह और हरप्रीत सिंह ने कंपनी और मैनेजर के खिलाफ नारेबाजी की। उन्होंने मांग की कि मैनेजर की तरफ से मुलाजिम से किए गए बुरे बर्ताव को लेकर मैनेजर के पुलिस कार्रवाई की जाए और नौकरी बहाल करके दिसंबर महीने का वेतन दिया जाए। मनरेगा स्कीम को दोबारा चलाने की मांग

संवाद सूत्र, लहरा मोहब्बत : नगर पंचायत को ग्राम पंचायत बनाने के लिए बनी एक्शन कमेटी की तरफ से शनिवार शाम 4 बजे से 5 बजे तक सरकारी प्राइमरी स्कूल लाल सिंह बस्ती के पास इक्ट्ठ रखा गया। इस दौरान चरणजीत कौर, जगीर कौर छिदर कौर, बिदरपाल कौर, गुरजंट सिंह, रणजीत कौर, बलजीत कौर, गुरमेल कौर, रानी कौर, बलजीत कौर, गुरमेल कौर, सुखजीत कौर, सुखवीर कौर, काका सिंह, बीरा सिंह, मेजर सिंह, गुरदीप सिंह, भोला सिंह, दलीप सिंह, कर्म सिंह सहित बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

उन्होंने गरीब परिवारों को मिलने वाली सुविधाएं जैसे मनरेगा तहत रोजगार, प्रधानमंत्री आवाज योजना तहत पक्के घर, आटा दाल स्कीम के लाभपात्री कार्ड, बुढापा, विधवा और अंगहीन पेंशन न मिलने के कारण रोष जाहिर किया। नगर पंचायत को तुड़वाने के लिए हलका विधायक प्रीतम सिंह कोटभाई, डीसी बठिडा को मांग पत्र दिया जा चुका है। गांव वासियों के इक्ट्ठ में सभी सियासी पार्टियों के नेताओं से नगर कौंसिल चुनाव के बायकाट के प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करवाए जा चुके है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.