मुआवजा देने से प्रशासन के मुकरने के बाद गुस्साए किसानों ने किया आटीआइ चौक जाम

मुआवजा देने से प्रशासन के मुकरने के बाद गुस्साए किसानों ने किया आटीआइ चौक जाम
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 10:17 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, बठिडा : गांव बादल में धरने से वापिस आ रहे किसानों की बस पलटने से एक किसान की मौत होने के मामले में प्रशासन के मुआवजा देने का एलान करने के बाद पीछे हटने के विरोध में भारतीय किसान यूनियन उगराहां के नेताओं ने आईटीआई चौक में जाम लगा दिया। इससे पहले किसानों की ओर से बठिडा के सिविल अस्पताल के बाहर जख्मी हुए किसानों का सही ढंग से इलाज करने के अलावा हादसे में मारे गए किसान के परिवार को मुआवजा देने के लिए प्रदर्शन किया जा रहा था। जबकि धरने के दौरान कुछ किसानों ने खूनदान भी किया। वहीं किसानों की तरफ से आईटीआई चौक को जाम कर देने से किसी भी वाहन को आने जाने नहीं दिया गया।

मानसा जिले के गांव किशनगढ़ के किसान मुख्तियार सिंह की हादसे में मौत हो गई थी तो 12 किसान जख्मी हो गए थे। उनका बठिडा के सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं 3 किसानों की हालात गंभीर होने के कारण उनको मैक्स अस्पताल में रेफर कर दिया था। इस मामले में जिला प्रधान शिगारा सिंह मान व जिला सीनियर उप प्रधान जोगिदर सिंह दियालपुरा ने बताया कि आईजी बठिडा रेंज के साथ हुई मीटिग में किसान के परिवार को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने, परिवार के एक मेंबर को सरकारी नौकरी देने व सारा कर्ज माफ करने के अलावा जख्मी लोगों का बढि़या अस्पताल में इलाज करवाने के साथ साथ उनको दो दो लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग की थी। जिसके बाद प्रशासन ने भरोसा दिया तो किसानों ने अपना धरना समाप्त कर दिया। यहां तक कि अस्पताल में आए पंजाब सरकार के मंत्रियों ने भी किसानों को मुआवजा देने का भरोसा दिया था। इसके बाद अब किसान नेताओं की प्रशासन के साथ वीरवार को हुई मीटिग में बोला गया कि सरकार द्वारा कोई भी मुआवजा नहीं दिया जा सकता, जिसके विरोध में अब उनके द्वारा आईटीआई चौक को जाम किया गया है। इस दौरान किसानों ने ऐलान किया कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता, तब तक उनका धरना जारी रहेगा। इस मौके पर बलजीत सिंह पूहला, वीरा सिंह गिदड़, अजयपाल सिंह, राम सिंह, अमरीक सिंह, नगौरा सिंह आदि उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.